Saba Mujh Ko Le Chal Dayaae-e-Madina Naat Lyrics

Saba Mujh Ko Le Chal Dayaae-e-Madina Naat Lyrics

 

 

 

सबा ! मुझ को ले चल दयार-ए-मदीना
चले न चले कोई, मैं तो चलूँगा
बड़ा दिल-नशीं है मदीने का मंज़र
कहे न कहे कोई, मैं तो कहूँगा

वो तयबा का मंज़र सुहाना
जहाँ सर झुकाए ज़माना
जहाँ पर फ़रिश्तों की पेशानी ख़म है
वही पर अदा मैं भी सज्दा करूँगा

वो महशर का दिन, सख़्त गर्मी
जहाँ हर क़दम नफ़्सी नफ़्सी
पकड़ पाएँगे क्या मुझे वो फ़रिश्ते
मैं आक़ा के दामन में जा कर छुपूँगा

चला क़ाफ़िला जब मदीने
तो रो कर कहा ये किसी ने
अरे जाने वालो ! मुझे साथ ले लो
चले न चले कोई, मैं तो चलूँगा

वो महशर में पहचान लेंगे
ये ‘उस्मान है, जान लेंगे
दुरूद-ओ-सलामों की बौछार होगी
वहाँ जब मैं ना’त-ए-शह-ए-दीं पढ़ूँगा

शायर:
उस्मान रज़ा हारूनी

नात-ख़्वाँ:
उस्मान रज़ा हारूनी

 

saba ! mujh ko le chal dayaar-e-madina
chale na chale koi, mai.n to chalunga
ba.Da dil-nashee.n hai madine ka manzar
kahe na kahe koi, mai.n to kahunga

wo tayba ka manzar suhaana
jahaa.n sar jhukaae zamaana
jahaa.n par farishto.n ki peshaani KHam hai
wahi par ada mai.n bhi sajda karunga

wo mahshar ka din, saKHt garmi
jahaa.n har qadam nafsi nafsi
paka.D paaenge kya mujhe wo farishte
mai.n aaqa ke daaman me.n jaa kar chhupoonga

chala qafila jab madine
to ro kar kaha ye kisi ne
are jaane waalo ! mujhe saath le lo
chale na chale koi, mai.n to chalunga

wo mahshar me.n pahchaan lenge
ye ‘Usmaan hai, jaan lenge
durood-o-salaamo.n ki bauchhaar hogi
wahaa.n jab mai.n naa’t-e-shah-e-dee.n
pa.Dhunga

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *