Sar Hai Kham Haath Mera Utha Hai Ya Khuda Tujh Se Meri Duaa Hai Naat Lyrics

Sar Hai Kham Haath Mera Utha Hai Ya Khuda Tujh Se Meri Duaa Hai Naat Lyrics

 

 

सर है ख़म, हाथ मेरा उठा है
या ख़ुदा ! तुझ से मेरी दु’आ है
फ़ज़्ल की, रहम की इल्तिजा है
या ख़ुदा ! तुझ से मेरी दु’आ है

क़ल्ब में याद, लब पर सना है
मेरे हर दर्द की ये दवा है
कौन दुखियों का तेरे सिवा है
या ख़ुदा ! तुझ से मेरी दु’आ है

हुब्ब-ए-दुनिया में दिल फँस गया है
नफ़्स-ए-बद-कार हावी हुआ है
हाए ! शैताँ भी पीछे पड़ा है
या ख़ुदा ! तुझ से मेरी दु’आ है

हर गुनह से बचा मुझ को, मौला !
नेक ख़स्लत बना मुझ को, मौला !
तुझ को रमज़ान का वासिता है
या ख़ुदा ! तुझ से मेरी दु’आ है

‘अफ़्व-ओ-रहमत का बख़्शिश का साइल
हूँ निहायत गुनहगार-ओ-ग़ाफ़िल
मेरा सब हाल तुझ पर खुला है
या ख़ुदा ! तुझ से मेरी दु’आ है

हूँ ब-ज़ाहिर बड़ा नेक सूरत
कर भी दे मुझ को अब नेक सीरत
ज़ाहिर अच्छा है, बातिन बुरा है
या ख़ुदा ! तुझ से मेरी दु’आ है

मग़्फ़िरत का हूँ तुझ से सुवाली
फेरना अपने दर से न ख़ाली
मुझ गुनहगार की इल्तिजा है
या ख़ुदा ! तुझ से मेरी दु’आ है

या ख़ुदा ! माह-ए-रमज़ाँ के सदक़े
सच्ची तौबा की तौफ़ीक़ दे दे
नेक बन जाऊँ जी चाहता है
या ख़ुदा ! तुझ से मेरी दु’आ है

मैं ने माना कि सब से बुरा हूँ
किस का हूँ ? तेरा हूँ मैं तेरा हूँ
नाज़ रहमत पे मुझ को बड़ा है
या ख़ुदा ! तुझ से मेरी दु’आ है

‘ऐब दुनिया में तू ने छुपाए
हश्र में भी न अब आँच आए
आह ! नामा मेरा खुल रहा है
या ख़ुदा ! तुझ से मेरी दु’आ है

‘उम्र बदियों में सारी गुज़ारी
हाए ! फिर भी नहीं शर्मसारी
बख़्श महबूब का वासिता है
या ख़ुदा ! तुझ से मेरी दु’आ है

हर तरफ़ से बलाओं ने घेरा
आफ़तों ने लगाया है डेरा
तू ही अब मेरा हाजत-रवा है
या ख़ुदा ! तुझ से मेरी दु’आ है

उस की झोली मुरादों से भर दे
उस के हक़ में जो बेहतर हो कर दे
जिस ने मुझ से दु’आ का कहा है
या ख़ुदा ! तुझ से मेरी दु’आ है

मेहरबाँ तू ही, तू ही मददगार
उस दुखी दिल का तू हामी-ए-कार
जिस को दुनिया ने ठुकरा दिया है
या ख़ुदा ! तुझ से मेरी दु’आ है

या इलाही ! कर ऐसी ‘इनायत
दे दे ईमान पर इस्तिक़ामत
तुझ से ‘अत्तार की इल्तिजा है
या ख़ुदा ! तुझ से मेरी दु’आ है

शायर:
मुहम्मद इल्यास अत्तार क़ादरी

ना’त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी
मेहमूद अत्तारी

 

sar hai KHam, haath mera uTha hai
ya KHuda ! tujh se meri du’aa hai
fazl ki, rahm ki iltija hai
ya KHuda ! tujh se meri du’aa hai

qalb me.n yaad, lab par sana hai
mere har dard ki ye dawa hai
kaun dukhiyo.n ka tere siwa hai
ya KHuda ! tujh se meri du’aa hai

hubb-e-duniya me.n dil phans gaya hai
nafs-e-bad-kaar haawi huwa hai
haae ! shaitaa.n bhi peechhe pa.Da hai
ya KHuda ! tujh se meri du’aa hai

har gunah se bacha mujh ko, maula !
nek KHaslat bana mujh ko, maula !
tujh ko ramzaan ka waasita hai
ya KHuda ! tujh se meri du’aa hai

‘afw-o-rahmat ka baKHshish ka saa.il
hu.n nihaayat gunahgaar-o-Gaafil
mera sab haal tujh par khula hai
ya KHuda ! tujh se meri du’aa hai

hu.n ba-zaahir ba.Da nek soorat
kar bhi de mujh ko ab nek seerat
zaahir achchha hai, baatin bura hai
ya KHuda ! tujh se meri du’aa hai

maGfirat ka hu.n tujh se suwaali
pherna apne dar se na KHaali
mujh gunahgaar ki iltija hai
ya KHuda ! tujh se meri du’aa hai

ya KHuda ! maah-e-ramzaa.n ke sadqe
sachchi tauba ki taufeeq de de
nek ban jaau.n jee chaahta hai
ya KHuda ! tujh se meri du’aa hai

mai.n ne maana ki sab se bura hu.n
kis ka hu.n ? tera hu.n mai.n tera hu.n
naaz rahmat pe mujh ko ba.Da hai
ya KHuda ! tujh se meri du’aa hai

‘aib duniya me.n tu ne chhupaae
hashr me.n bhi na ab aanch aae
aah ! naama mera khul raha hai
ya KHuda ! tujh se meri du’aa hai

‘umr badiyo.n me.n saari guzaari
haae ! phir bhi nahi.n sharmsaari
baKHsh mahboob ka waasita hai
ya KHuda ! tujh se meri du’aa hai

har taraf se balaao.n ne ghera
aafto.n ne lagaaya hai Dera
tu hi ab mera haajat-rawa hai
ya KHuda ! tujh se meri du’aa hai

un ki jholi muraado.n se bhar de
us ke haq me.n jo behtar ho kar de
jis ne mujh se du’aa ka kaha hai
ya KHuda ! tujh se meri du’aa hai

mehrbaa.n tu hi, tu hi madadgaar
us dukhi dil ka tu haami-e-kaar
jis ko duniya ne Thukra diya hai
ya KHuda ! tujh se meri du’aa hai

ya ilaahi ! kar aisi ‘inaayat
de de imaan par istiqaamat
tujh se ‘Attar ki iltija hai
ya KHuda ! tujh se meri du’aa hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *