Sare Waliyon Ke Dil Ki Sada Hai Al Madad Al Madad Ghous-e-Azam Naat Lyrics

Sare Waliyon Ke Dil Ki Sada Hai Al Madad Al Madad Ghous-e-Azam Naat Lyrics

 

ग़ौस-ए-आ’ज़म ब-मन-ए-बे-सर-ओ-सामाँ मददे
क़िब्ला-ए-दीं मददे, का’बा-ए-ईमाँ मददे

अल-मदद अल-मदद, या ग़ौस-ए-आ’ज़म ! अल-मदद
अल-मदद अल-मदद, या ग़ौस-ए-आ’ज़म ! अल-मदद

सारे वलियों के दिल की सदा है
अल-मदद अल-मदद, ग़ौस-ए-आ’ज़म !
तू यक़ीनन मेरा पेशवा है
अल-मदद अल-मदद, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

डूबी कश्ती को पल में तिराया
और मुर्दे को तू ने जिलाया
रब ही जाने तेरा रुत्बा क्या है
अल-मदद अल-मदद, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

सारे वलियों के दिल की सदा है
अल-मदद अल-मदद, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

भीक मिलती है आल-ए-नबी की
इस लिए ले के कश्कोल ख़ाली
तेरी चौखट पे मँगता खड़ा है
अल-मदद अल-मदद, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

सारे वलियों के दिल की सदा है
अल-मदद अल-मदद, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

दीद का जाम आ कर पिला दो
मेरा सोया नसीबा जगा दो
शाह-ए-जीलाँ ! यही इल्तिजा है
अल-मदद अल-मदद, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

सारे वलियों के दिल की सदा है
अल-मदद अल-मदद, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

तेरे दर का वो कुत्ता जुदा है
जो कभी शेर से ना डरा है
हौसला उस को तुझ से मिला है
अल-मदद अल-मदद, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

सारे वलियों के दिल की सदा है
अल-मदद अल-मदद, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

रंज-ओ-कुल्फ़त ने जब जब है घेरा
काम आया है तब ये वज़ीफ़ा
हर घड़ी मेरे लब पे सजा है
अल-मदद अल-मदद, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

सारे वलियों के दिल की सदा है
अल-मदद अल-मदद, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

इक घड़ी पहुँचे सत्तर के घर पर
चाहे मुफ़्लिस हो या हो तवंगर
यक-ज़ुबाँ हो के सब ने कहा है
अल-मदद अल-मदद, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

सारे वलियों के दिल की सदा है
अल-मदद अल-मदद, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

शाह-ए-बग़दाद ! हम पर करम हो
दूर आफ़ात और रंज-ओ-ग़म हो
अच्छे अच्छों से हम ने सुना है
अल-मदद अल-मदद, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

सारे वलियों के दिल की सदा है
अल-मदद अल-मदद, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

ऐ क़याम ! उन से है अपना रिश्ता
ग़ौस से जिन को है प्यार सच्चा
सुन के चेहरा ये जिन का खिला है
अल-मदद अल-मदद, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

सारे वलियों के दिल की सदा है
अल-मदद अल-मदद, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

शायर:
मौलाना क़याम रज़ा क़ादरी

ना’त-ख़्वाँ:
ग़ुलाम मुस्तफ़ा क़ादरी

 

Gaus-e-aa’zam ba-man-e-be-sar-o-saamaa.n madade
qibla-e-dee.n madade, kaa’ba-e-imaa.n madade

al-madad al-madad, ya Gaus-e-aa’zam ! al-madad
al-madad al-madad, ya Gaus-e-aa’zam ! al-madad

saare waliyo.n ke dil ki sada hai
al-madad al-madad, Gaus-e-aa’zam !
tu yaqeenan mera peshwa hai
al-madad al-madad, Gaus-e-aa’zam !

Doobi kashti ko pal me.n tiraaya
aur murde ko tu ne jilaaya
rab hi jaane tera rutba kya hai
al-madad al-madad, Gaus-e-aa’zam !

saare waliyo.n ke dil ki sada hai
al-madad al-madad, Gaus-e-aa’zam !

bheek milti hai aal-e-nabi ki
is liye le ke kashkol KHaali
teri chaukhaT pe mangta kha.Da hai
al-madad al-madad, Gaus-e-aa’zam !

saare waliyo.n ke dil ki sada hai
al-madad al-madad, Gaus-e-aa’zam !

deed ka jaam aa kar pila do
mera soya naseeba jaga do
shaah-e-jeelaa.n ! yahi iltija hai
al-madad al-madad, Gaus-e-aa’zam !

saare waliyo.n ke dil ki sada hai
al-madad al-madad, Gaus-e-aa’zam !

tere dar ka wo kutta juda hai
jo kabhi sher se na Dara hai
hausla us ko tujh se mila hai
al-madad al-madad, Gaus-e-aa’zam !

saare waliyo.n ke dil ki sada hai
al-madad al-madad, Gaus-e-aa’zam !

ranj-o-kulfat ne jab jab hai ghera
kaam aaya hai tab ye wazeefa
har gha.Di mere lab pe saja hai
al-madad al-madad, Gaus-e-aa’zam !

saare waliyo.n ke dil ki sada hai
al-madad al-madad, Gaus-e-aa’zam !

ik gha.Di pahunche sattar ke ghar par
chaahe muflis ho ya ho tawangar
yak-zuba.n ho ke sab ne kaha hai
al-madad al-madad, Gaus-e-aa’zam !

saare waliyo.n ke dil ki sada hai
al-madad al-madad, Gaus-e-aa’zam !

shaah-e-baGdaad ! ham par karam ho
door aafaat aur ranj-o-Gam ho
achchhe achchho.n se ham ne suna hai
al-madad al-madad, Gaus-e-aa’zam !

saare waliyo.n ke dil ki sada hai
al-madad al-madad, Gaus-e-aa’zam !

ai Qayaam ! un se hai apna rishta
Gaus se jin ko hai pyaar sachcha
sun ke chehra ye jin ka khila hai
al-madad al-madad, Gaus-e-aa’zam !

saare waliyo.n ke dil ki sada hai
al-madad al-madad, Gaus-e-aa’zam !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *