Sat-Rangi Phoolon Ke Gulshan Ai Mere Watan Mahboob Watan Naat Lyrics

Sat-Rangi Phoolon Ke Gulshan Ai Mere Watan Mahboob Watan Naat Lyrics

 

 

सत-रंगी फूलों के गुलशन, ए मेरे वतन ! महबूब वतन !
बे-दाग़ रहे तेरा दामन, ए मेरे वतन ! महबूब वतन !

सत-रंगी फूलों के गुलशन, ए मेरे वतन ! महबूब वतन !

तू ‘इल्म-ओ-हुनर का मरकज़ है, तू ‘अक़्ल-ओ-ख़िरद का मेहवर है
तू अहल-ए-वतन की है जन्नत, तू हुस्न-ओ-‘इश्क़ का साग़र है
बा-फ़ैज़ हैं तेरे दश्त-ओ-दमन, ए मेरे वतन ! महबूब वतन !

सत-रंगी फूलों के गुलशन, ए मेरे वतन ! महबूब वतन !

जाने कितनी नज़रें उट्ठीं तेरी नौ-ख़ेज़ बहारों पर
अँधियारों ने भी दस्तक दी तेरे फ़िरदौसी उजियारों पर
है सुब्ह तेरी फिर भी रौशन, ए मेरे वतन ! महबूब वतन !

सत-रंगी फूलों के गुलशन, ए मेरे वतन ! महबूब वतन !

ये इन्द्र-धनुष प्यारे प्यारे क्या दिलकश धूप खिलाते हैं
जल-थल, नदियों के गहवारे, तारों को झूला झुलाते हैं
जगमग जगमग तेरा दर्पन, ए मेरे वतन ! महबूब वतन !

सत-रंगी फूलों के गुलशन, ए मेरे वतन ! महबूब वतन !

तेरी ख़ातिर दीवानों ने, अलबेलों ने, मस्तानों ने
इस मिट्टी पर क़ुर्बान किया है ख़ुद को वीर जवानों ने
शादाब रहेगा तेरा चमन, ए मेरे वतन ! महबूब वतन !

सत-रंगी फूलों के गुलशन, ए मेरे वतन ! महबूब वतन !

मेहदी ! वो हिमालय की चोटी अपनी है मुहाफ़िज़ बरसों से
अल्लाह बचाए रखे इसे दुनिया की ज़ालिम नज़रों से
दे तुझ को सलामी नील-गगन, ए मेरे वतन ! महबूब वतन !

सत-रंगी फूलों के गुलशन, ए मेरे वतन ! महबूब वतन !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *