Sata Rahi Hai Unhi Ki Yaadein Hawa Bhi Naghma Suna Rahi Hai Naat Lyrics

Sata Rahi Hai Unhi Ki Yaadein Hawa Bhi Naghma Suna Rahi Hai Naat Lyrics

 

 

सता रही है उन्ही की यादें, हवा भी नग़्मा सुना रही है
दिखाएँ कैसे तड़प ये दिल की, मेरी सदाएँ बता रही है

न उन के जैसा हसीं है देखा, किसी बशर ने, किसी शजर ने
ज़मीं ज़मां ख़ाक उस शहर की उन्हीं की मिदहत सुना रही है

कभी हिरा में, कभी बदर में, कभी सफ़र में, कभी हज़र में
क़ुरआन उन पर उतरता देखा, वहाँ की गलियाँ बता रही है

हाँ ! उस की ख़ातिर हजर भी बोले, उसी की ख़ातिर तना भी रो ले
कैसा मुक़द्दर तेरा, हलीमा ! तू उन को झूला झुला रही है

हाँ ! ज़र्रा ज़र्रा सिसक रहा था, तेरी जुदाई में, शाह-ए-‘आलम !
सिद्दीक़, ‘उमर और ‘उस्मान-ओ-हैदर को ये जुदाई रुला रही है

कभी ज़ियारत जो उन की होगी, कभी मदीने गया जो साक़ी
अदब से पलकें झुकाए कह देंगे ये जुदाई सता रही है

शायर:
समी साक़ी

नात-ख़्वाँ:
दीदार हुसैन

 

sata rahi hai unhi.n ki yaade.n
hawa bhi naGma suna rahi hai
dikhaae.n kaise ta.Dap ye dil ki
meri sadaae.n bata rahi hai

na un ke jaisa hasee.n hai dekha
kisi bashar ne, kisi shajar ne
zamee.n zamaa.n KHaak us shahar ki
unhi.n ki mid.hat suna rahi hai

kabhi hira me.n, kabhi badar me.n
kabhi safar me.n, kabhi hazar me.n
qur.aan un par utarta dekha
wahaa.n ki galiyaa.n bata rahi hai

haa.n ! us ki KHaatir hajar bhi bole
usi ki KHaatir tana bhi ro le
kaisa muqaddar tera, haleema !
tu un ko jhoola jhula rahi hai

haa.n ! zarra zarra sisak raha tha
teri judaai me.n, shaah-e-‘aalam !
siddiq, ‘umar aur ‘usmaan-o-haidar
ko ye judaai rula rahi hai

kabhi ziyaarat jo un ki hogi
kabhi madine gaya jo Saaqi
adab se palke.n jhukaae kah denge
ye judaai sata rahi hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *