Shah-e-Laulaak Ka Sadqa, Mera Markaz Bareli Hai Naat Lyrics

Shah-e-Laulaak Ka Sadqa, Mera Markaz Bareli Hai Naat Lyrics

 

क़ाइद-ए-मोहतरम, है वो फ़ैज़-ए-क़दीर
मेरा अहमद रज़ा, ला-जवाब, बे-नज़ीर

राहत-ए-जान है, रूह की ताज़गी
जानिब-ए-तयबा की तो रज़ा है लकीर

झूम कर कह उठा, उन का हर इक गदा
आ’ला हज़रत मेरा रहनुमा, मेरा पीर

शह-ए-लौलाक का सदक़ा, मेरा मर्कज़ बरेली है
यक़ीनन फ़ज़्ल है रब का, मेरा मर्कज़ बरेली है

जहाँ में वो भटक सकता नहीं राह-ए-हिदायत से
लगाया जिस ने भी ना’रा, मेरा मर्कज़ बरेली है

शह-ए-लौलाक का सदक़ा, मेरा मर्कज़ बरेली है
यक़ीनन फ़ज़्ल है रब का, मेरा मर्कज़ बरेली है

भला मुन्किर से मैं क्यूँ ख़ौफ़ खाऊँगा ज़माने में
है जब दिल में मेरे लिखा, मेरा मर्कज़ बरेली है

मेरा ईमान पैसों से ख़रीदा जा नहीं सकता
मेरा ईमान है पक्का, मेरा मर्कज़ बरेली है

शह-ए-लौलाक का सदक़ा, मेरा मर्कज़ बरेली है
यक़ीनन फ़ज़्ल है रब का, मेरा मर्कज़ बरेली है

क़ाइद-ए-मोहतरम है वो फ़ैज़-ए-क़दीर
मेरा अहमद रज़ा, ला-जवाब, बे-नज़ीर

राहत-ए-जान है, रूह की ताज़गी
जानिब-ए-तयबा की तो रज़ा है लकीर

झूम कर कह उठा, उन का हर इक गदा
आ’ला हज़रत मेरा रहनुमा, मेरा पीर

मुनाफ़िक़ सामने गर हो तो उस के सामने भी मैं
सुनाऊँगा यही नग़्मा, मेरा मर्कज़ बरेली है

मिला है आ’ला हज़रत का लक़ब जिस को, उसी के सर
मुजद्दिद का सजा सेहरा, मेरा मर्कज़ बरेली है

शह-ए-लौलाक का सदक़ा, मेरा मर्कज़ बरेली है
यक़ीनन फ़ज़्ल है रब का, मेरा मर्कज़ बरेली है

मदीने का पता हम को मिला जिस से, जहाँ वालो !
बरेली का है वो आक़ा, मेरा मर्कज़ बरेली है

लहद का ख़ौफ़ फिर कैसा अगर उस दम कहा तुम ने
ए तफ़्सीर-ए-हज़ीं ! इतना, मेरा मर्कज़ बरेली है

शह-ए-लौलाक का सदक़ा, मेरा मर्कज़ बरेली है
यक़ीनन फ़ज़्ल है रब का, मेरा मर्कज़ बरेली है

शायर:
हाफ़िज़ तफ़्सीर रज़ा अमजदी

ना’त-ख़्वाँ:
क़ारी तय्यब रज़ा अत्तारी

 

qaaid-e-mohtaram, hai wo faiz-e-qadeer
mera ahmad raza, laa-jawaab, be-nazeer

raahat-e-jaan hai, rooh ki taazgi
jaanib-e-tayba ki to raza hai lakeer

jhoom kar kah uTha, un ka har ik gada
aa’la hazrat mera rahnuma, mera peer

shah-e-laulaak ka sadqa, mera markaz bareli hai
yaqeenan fazl hai rab ka, mera markaz bareli hai

jahaa.n me.n wo bhaTak sakta nahi.n raah-e-hidaayat se
lagaaya jis ne bhi naa’ra, mera markaz bareli hai

shah-e-laulaak ka sadqa, mera markaz bareli hai
yaqeenan fazl hai rab ka, mera markaz bareli hai

bhala munkir se mai.n kyu.n KHauf khaaunga zamaane me.n
hai jab dil me.n mere likha, mera markaz bareli hai

mera imaan paiso.n se KHareeda jaa nahi.n sakta
mera imaan hai pakka, mera markaz bareli hai

shah-e-laulaak ka sadqa, mera markaz bareli hai
yaqeenan fazl hai rab ka, mera markaz bareli hai

qaaid-e-mohtaram, hai wo faiz-e-qadeer
mera ahmad raza, laa-jawaab, be-nazeer

raahat-e-jaan hai, rooh ki taazgi
jaanib-e-tayba ki to raza hai lakeer

jhoom kar kah uTha, un ka har ik gada
aa’la hazrat mera rahnuma, mera peer

munaafiq saamne gar ho to us ke saamne bhi mai.n
sunaaunga yahi naGma, mera markaz bareli hai

mila hai aa’la hazrat ka laqab jis ko, usi ke sar
mujaddid ka saja sehra, mera markaz bareli hai

shah-e-laulaak ka sadqa, mera markaz bareli hai
yaqeenan fazl hai rab ka, mera markaz bareli hai

madine ka pata ham ko mila jis se, jahaa.n waalo !
bareli ka hai wo aaqa, mera markaz bareli hai

lahad ka KHauf phir kaisa agar us dam kaha tum ne
ai Tafseer-e-hazee.n ! itna, mera markaz bareli hai

shah-e-laulaak ka sadqa, mera markaz bareli hai
yaqeenan fazl hai rab ka, mera markaz bareli hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *