Sitaare Jagmagaate Hain Shab-e-Me’raj Aai Hai Naat Lyrics

Sitaare Jagmagaate Hain Shab-e-Me’raj Aai Hai Naat Lyrics

 

 

सितारे जगमगाते हैं, शब-ए-मे’राज आई है
सभी ख़ुशियाँ मनाते हैं, शब-ए-मे’राज आई है

सुना है जब से, आएँगे नबी ‘अर्श-ए-मु’अल्ला पर
मलक भी मुस्कुराते हैं, शब-ए-मे’राज आई है

अदब के साथ में जिब्रील भी रब्ब-ए-दो-‘आलम का
यही पैग़ाम लाते हैं, शब-ए-मे’राज आई है

लिबास-ए-नूर और सेहरा शफ़ा’अत का मलक ले कर
इन्हें दूल्हा बनाते हैं, शब-ए-मे’राज आई है

सरापा मो’जिज़ा रब ने बना कर इन को भेजा है
तभी तो ‘अर्श जाते हैं, शब-ए-मे’राज आई है

था बिस्तर गर्म वो, बेख़ुद ! रही ज़ंजीर भी हिलती
वो पल में आते जाते हैं, शब-ए-मे’राज आई है

शायर:
वसीम बेख़ुद माण्डलवी

नात-ख़्वाँ:
राओ अली हसनैन

 

sitaare jagmagaate hai.n, shab-e-me’raaj aai hai
sabhi KHushiyaa.n manaate hai.n, shab-e-me’raaj aai hai

suna hai jab se, aae.nge nabi ‘arsh-e-mu’alla par
malak bhi muskuraate hai.n, shab-e-me’raaj aai hai

adab ke saath me.n jibreel bhi rabb-e-do-‘aalam ka
yahi paiGaam laate hai.n, shab-e-me’raaj aai hai

libaas-e-noor aur sehra shafaa’at ka malak le kar
inhe.n dulha banaate hai.n, shab-e-me’raaj aai hai

saraapa mo’jiza rab ne bana kar in ko bheja hai
tabhi to ‘arsh jaate hai.n, shab-e-me’raaj aai hai

tha bistar garm wo, BeKHud ! rahi zanjeer bhi hilti
wo pal me.n aate jaate hai.n, shab-e-me’raaj aai hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *