Tamanna Hai Mere Maula Dayaar-e-Mustafa Dekhoon Naat Lyrics

Tamanna Hai Mere Maula Dayaar-e-Mustafa Dekhoon Naat Lyrics

 

तमन्ना है, मेरे मौला ! दयार-ए-मुस्तफ़ा देखूँ
मैं का’बे का हसीं मंज़र कभी तो, या ख़ुदा ! देखूँ

सुनूँ लब्बैक के नग़्मे हरम की पाक वादी में
दर-ए-ख़ैर-उल-वरा पर ‘आशिक़ों का झूमना देखूँ

तमन्ना है, मेरे मौला ! दयार-ए-मुस्तफ़ा देखूँ
मैं का’बे का हसीं मंज़र कभी तो, या ख़ुदा ! देखूँ

मज़ार-ए-हज़रत-ए-हम्ज़ा को भी देखें मेरी आँखें
दयार-ए-‘आइशा देखूँ, मज़ार-ए-फ़ातिमा देखूँ

तमन्ना है, मेरे मौला ! दयार-ए-मुस्तफ़ा देखूँ
मैं का’बे का हसीं मंज़र कभी तो, या ख़ुदा ! देखूँ

तेरे महबूब जिस गुंबद के नीचे जल्वा-फ़रमा हैं
है जिस पर ‘अर्श भी नाज़ाँ, मैं वो गुंबद हरा देखूँ

तमन्ना है, मेरे मौला ! दयार-ए-मुस्तफ़ा देखूँ
मैं का’बे का हसीं मंज़र कभी तो, या ख़ुदा ! देखूँ

बसर हो, या ख़ुदा ! कुछ इस तरह से ज़िंदगी मेरी
सहर में का’बा देखूँ, शाम में गुंबद हरा देखूँ

तमन्ना है, मेरे मौला ! दयार-ए-मुस्तफ़ा देखूँ
मैं का’बे का हसीं मंज़र कभी तो, या ख़ुदा ! देखूँ

जहाँ आराम-फ़रमा हैं सहाबा मेरे आक़ा के
तमन्ना है, मेरे मौला ! वो मंज़र बद्र का देखूँ

तमन्ना है, मेरे मौला ! दयार-ए-मुस्तफ़ा देखूँ
मैं का’बे का हसीं मंज़र कभी तो, या ख़ुदा ! देखूँ

मैं चूमूँ गुंबद-ए-ख़ज़रा की जिस दम झालियाँ, ‘आसिम !
ख़ुदा से है दु’आ उस दम जमाल-ए-मुस्तफ़ा देखूँ

तमन्ना है, मेरे मौला ! दयार-ए-मुस्तफ़ा देखूँ
मैं का’बे का हसीं मंज़र कभी तो, या ख़ुदा ! देखूँ

शायर:
मुहम्मद ‘आसिम-उल-क़ादरी मुरादाबादी

ना’त-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी और हाफ़िज़ अहसन क़ादरी

 

tamanna hai, mere maula ! dayaar-e-mustafa dekhu.n
mai.n kaa’be ka hasee.n manzar kabhi to, ya KHuda ! dekhu.n

sunoo.n labbaik ke naGme haram ki paak waadi me.n
dar-e-KHair-ul-wara par ‘aashiqo.n ka jhoomna dekhu.n

tamanna hai, mere maula ! dayaar-e-mustafa dekhu.n
mai.n kaa’be ka hasee.n manzar kabhi to, ya KHuda ! dekhu.n

mazaar-e-hazrat-e-hamza ko bhi dekhe.n meri aankhe.n
dayaar-e-‘aaisha dekhu.n, mazaar-e-faatima dekhu.n

tamanna hai, mere maula ! dayaar-e-mustafa dekhu.n
mai.n kaa’be ka hasee.n manzar kabhi to, ya KHuda ! dekhu.n

tere mahboob jis gumbad ke neeche jalwa-farma hai.n
hai jis par ‘arsh bhi naazaa.n, mai.n wo gumbad hara dekhu.n

tamanna hai, mere maula ! dayaar-e-mustafa dekhu.n
mai.n kaa’be ka hasee.n manzar kabhi to, ya KHuda ! dekhu.n

basar ho, ya KHuda ! kuchh is tarah se zindagi meri
sahar me.n kaa’ba dekhu.n, shaam me.n gumbad hara dekhu.n

tamanna hai, mere maula ! dayaar-e-mustafa dekhu.n
mai.n kaa’be ka hasee.n manzar kabhi to, ya KHuda ! dekhu.n

mai.n choomoo.n gumbad-e-KHazra ki jis dam jhaaliyaa.n, ‘Aasim !
KHuda se hai du’aa us dam jamaal-e-mustafa dekhu.n

tamanna hai, mere maula ! dayaar-e-mustafa dekhu.n
mai.n kaa’be ka hasee.n manzar kabhi to, ya KHuda ! dekhu.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *