Tayba Ke Jaane Waale Jaa Kar Bade Adab Se Naat Lyrics

Tayba Ke Jaane Waale Jaa Kar Bade Adab Se Naat Lyrics

 

 

तयबा के जाने वाले ! जा कर बड़े अदब से
मेरा भी क़िस्सा-ए-ग़म कहना शह-ए-‘अरब से

कहना कि, शाह-ए-‘आली ! इक रंज-ओ-ग़म का मारा
दोनों जहाँ में इस का हैं आप ही सहारा

हालात-ए-पुर-अलम से हर दम गुज़र रहा है
और काँपते लबों से फ़रियाद कर रहा है

बार-ए-ग़ुनाह अपना है दोश पर उठाए
कोई नहीं है ऐसा जो पूछने को आए

भटका हुआ मुसाफ़िर मंज़िल को ढूँडता है
तारीकियों में माह-ए-कामिल को ढूँडता है

सीने में है अँधेरा, दिल है सियाह-ख़ाना
ये सब मेरी हक़ीक़त सरकार को सुनाना

कहना मेरे नबी से, महरूम हूँ ख़ुशी से
सर पर इक अब्र-ए-ग़म है, अश्क़ों से आँख नम है

पामाल-ए-ज़िंदगी हूँ, सरकार ! उम्मती हूँ
उम्मत के रहनुमा हो, कुछ ‘अर्ज़-ए-हाल सुन लो

फ़रियाद कर रहा हूँ, मैं दिल-फ़िगार कब से
मेरा भी क़िस्सा-ए-ग़म कहना शह-ए-‘अरब से

तयबा के जाने वाले ! जा कर बड़े अदब से
मेरा भी क़िस्सा-ए-ग़म कहना शह-ए-‘अरब से

कहना कि खा रहा हूँ मैं ठोकरें जहाँ में
तुम ही बताओ, आक़ा ! जाऊँ भला कहाँ मैं

महसूस कर रहा हूँ, दुनिया है एक धोका
मतलब के यार हैं सब, कोई नहीं किसी का

किस को मैं अपना जानूँ, किस का मैं लूँ सहारा
मुझ को तो, मेरे आक़ा ! है आप का सहारा

तुम ही सुनोगे मेरी, तुम ही करम करोगे
दोनों जहाँ में तुम ही मेरा भरम रखोगे

तुम दाद-ख़्वाह-ए-‘आलम, मैं इक नसीब-ए-बरहम
तुम बे-कसों के वाली, मैं बे-नवा सवाली

तुम ‘आसियों का यारा, मैं गर्दिशों का मारा
रहमत हो तुम सरापा, मैं मुर्तक़िब ख़ता का

हूँ शर्मसार अपने आ’माल के सबब से
मेरा भी क़िस्सा-ए-ग़म कहना शह-ए-‘अरब से

तयबा के जाने वाले ! जा कर बड़े अदब से
मेरा भी क़िस्सा-ए-ग़म कहना शह-ए-‘अरब से

ए ‘आज़ीम-ए-मदीना ! जा कर नबी से कहना
सोज़-ए-ग़म-ए-अलम से अब जल रहा है सीना

कहना के दिल में लाखों अरमाँ भरे हुए हैं
कहना के हसरतों के नश्तर चुभे हुए हैं

है आरज़ू ये दिल की, मैं भी मदीने जाऊँ
सुल्तान-ए-दो-जहाँ को सब दाग़-ए-दिल दिखाऊँ

काटूँ हज़ार चक्कर तयबा की हर गली के
यूँही गुज़ार दूँ मैं अय्याम ज़िंदगी के

फूलों पे जाँ निसारूँ, काटों पे दिल को वारूँ
ज़र्रों को दूँ सलामी, दर की करूँ ग़ुलामी

दीवार-ओ-दर को चूमूँ, क़दमों पे सर को रख दूँ
महबूब से लिपट कर, रोता रहूँ बराबर

‘आलम के दिल में है ये हसरत न जाने कब से
मेरा भी क़िस्सा-ए-ग़म कहना शह-ए-‘अरब से

तयबा के जाने वाले ! जा कर बड़े अदब से
मेरा भी क़िस्सा-ए-ग़म कहना शह-ए-‘अरब से

नात-ख़्वाँ:
मुहम्मद ओवैस रज़ा क़ादरी

 

tayba ke jaane waale !
jaa kar ba.De adab se
mera bhi qissa-e-Gam
kahna shah-e-‘arab se

kahna ki, shaah-e-‘aali !
ik ranj-o-Gam ka maara
dono jahaa.n me.n is ka
hai.n aap hi sahaara

haalaat-e-pur-alam se
har dam guzar raha hai
aur kaa.npte labo.n se
fariyaad kar raha hai

baar-e-Gunaah apna
hai dosh par uThaae
koi nahi.n hai aisa
jo poochhne ko aae

bhaTka huaa musaafir
manzil ko DhoonDta hai
taareekiyo.n me.n maah-e-
kaamil ko DhoonDta hai

seene me.n hai andhera
dil hai siyaah-KHaana
ye sab meri haqeeqat
sarkaar ko sunaana

kahna mere nabi se
mahroom hu.n KHushi se
sar par ik abr-e-Gam hai
ashqo.n se aankh nam hai

paamaal-e-zindagi hu.n
sarkaar ! ummati hu.n
ummat ke rahnuma ho
kuchh ‘arz-e-haal sun lo

fariyaad kar raha hu.n
mai.n dil-figaar kab se
mera bhi qissa-e-Gam
kahna shah-e-‘arab se

tayba ke jaane waale !
jaa kar ba.De adab se
mera bhi qissa-e-Gam
kahna shah-e-‘arab se

kahna ki kha raha hu.n
mai.n Thokre.n jahaa.n me.n
tum hi bataao, aaqa !
jaau.n bhala kahaa.n mai.n

mahsoos kar raha hu.n
duniya hai ek dhoka
matlab ke yaar hai.n sab
koi nahi.n kisi ka

kis ko mai.n apna jaanoo.n
kis ka mai.n loo.n sahaara
mujh ko to, mere aaqa !
hai aap ka sahaara

tum hi sunoge meri
tum hi karam karoge
dono jahaa.n me.n tum hi
mera bharam rakhoge

tum daad-KHwaah-e-‘aalam
mai.n ik naseeb-e-barham
tum be-kaso.n ke waali
mai.n be-nawa sawaali

tum aasiyo.n ka yaara
mai.n gardisho.n ka maara
rahmat ho tum saraapa
mai.n murtaqib KHata ka

hu.n sharmsaar apne
aa’maal ke sabab se
mera bhi qissa-e-Gam
kahna shah-e-‘arab se

tayba ke jaane waale !
jaa kar ba.De adab se
mera bhi qissa-e-Gam
kahna shah-e-‘arab se

ai ‘aazim-e-madina !
jaa kar nabi se kahna
soz-e-Gam-e-alam se
ab jal raha hai seena

kahna ke dil me.n laakho.n-
armaa.n bhare hue hai.n
kahna ke hasrato.n ke
nashtar chubhe hue hai.n

hai aarzoo ye dil ki
mai.n bhi madine jaau.n
sultaan-e-do-jahaa.n ko
sab daaG-e-dil dikhaau.n

kaaToo.n hazaar chakkar
tayba ki har gali ke
yu.nhi guzaar du.n mai.n
ayyaam zindagi ke

phoolo.n pe jaa.n nisaaru.n
kaaTo.n pe dil ko waaru.n
zarro.n ko du.n salaami
dar ki karu.n Gulaami

deewaar-o-dar ko choomoo.n
qadmo.n pe sar ko rakh doo.n
mahboob se lipaT kar
rota rahu.n baraabar

‘Aalam ke dil me.n hai ye
hasrat na jaane kab se
mera bhi qissa-e-Gam
kahna shah-e-‘arab se

tayba ke jaane waale !
jaa kar ba.De adab se
mera bhi qissa-e-Gam
kahna shah-e-‘arab se

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *