Tere Jad Ki Hai Barahwin Ghaus-e-Azam Naat Lyrics

Tere Jad Ki Hai Barahwin Ghaus-e-Azam Naat Lyrics

 

 

Tere Jad Ki Hai Barahwin Ghaus-e-Azam | Tere Jad Ki Hai Barvi Ghous-e-Azam

 

 

तेरे जद की है बारहवीं, ग़ौस-ए-आ’ज़म !
मिली है तुझे ग्यारहवीं, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

कोई उन के रुत्बे को क्या जानता है
मुहम्मद के हैं जा-नशीं ग़ौस-ए-आ’ज़म

तू है नूर-ओ-आईना-ए-मुस्तफ़ाई
नहीं कोई तुझ सा हसीं, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

हुए औलिया ज़ी-शरफ़ गरचे लाखों
मगर सब से हैं बेहतरीं ग़ौस-ए-आ’ज़म

जहाँ औलिया करते हैं जब्हा-साई
वो बग़दाद की है ज़मीं, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

तेरे रौज़ा-ए-पाक के देखने को
तड़पता है क़ल्ब-ए-हज़ीं, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

मुझे भी बुला लो, ख़ुदा-रा ! कि मैं भी
घिसूँ आस्ताँ पर जबीं, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

हमें भी बुला लो, ख़ुदा-रा ! कि हम भी
घिसें आस्ताँ पर जबीं, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

मेरे क़ल्ब का हाल क्या पूछते हो
ये दिल है मकाँ और मकीं ग़ौस-ए-आ’ज़म

जो अहल-ए-नज़र हैं, वही जानते हैं
कि हर दम हैं सब से क़रीं ग़ौस-ए-आ’ज़म

हमारी भी लिल्लाह बिगड़ी बना दो
ग़ुलामों के तुम हो मु’ईं, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

हैं घेरे हुए चार जानिब से दुश्मन
ख़ुदा-रा बचा मेरा दीं, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

छुपा ले मुझे अपने दामन के नीचे
कि ग़म की घटाएँ उठीं, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

वो है कौन सा उन के दर का भिकारी
मददगार जिस के नहीं ग़ौस-ए-आ’ज़म

हुसैन-ओ-हसन की तो आँखों का तारा
वो ख़ातिम हैं और तू नगीं, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

हुकूमत तेरी नाफ़िज़ा है कि हक़ ने
तुझे दी है फ़त्ह-ए-मुबीं, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

तुझे सब ने जाना, तुझे सब ने माना
तेरी सब में धूमें मचीं, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

तू वो है तेरे पाक तलवे के आगे
खिंची गर्दनें झुक गईं, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

न थे मुतलक़न औलिया जिस से वाक़िफ़
तुझे ने’मतें वो मिलीं, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

तेरी ज़ात से, ऐ शरी’अत के हामी !
तरीक़त की रम्ज़ें खुलीं, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

शरी’अत, तरीक़त के हर सिलसिले में
हैं तेरी ही नहरें बहीं, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

सलासिल की सब मंज़िलों में है फैली
तेरी रौशनी बिल-यक़ीं, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

ग़म-ओ-रंज में नाम तेरा लिया जब
तो कलियाँ दिलों की खिलीं, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

करम गर करो, मेरे मदफ़न में आओ
तो हो क़ब्र ख़ुल्द-ए-बरीं, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

इलाही ! तेरा कलमा-ए-पाक मुझ को
सिखाएँ दम-ए-वापसीं ग़ौस-ए-आ’ज़म

ब-सू-ए-जमील अज़-निगाह-ए-‘इनायत
ब-बीं, ग़ौस-ए-आ’ज़म ! ब-बीं, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

वहाँ सर झुकाते हैं सब ऊँचे ऊँचे
जहाँ है तेरा नक़्श-ए-पा, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

हुसैन-ओ-हसन फूल बाग़-ए-नबी के
उसी बाग़ का तू है फल, ग़ौस-ए-आ’ज़म !

सरों पर जिसे लेते हैं ताज वाले
तुम्हारा क़दम है वो, या ग़ौस-ए-आ’ज़म !

दो ‘आलम में है कौन हामी हमारा
यहाँ ग़ौस-ए-आ’ज़म, वहाँ ग़ौस-ए-आ’ज़म

जमील ! आ’ला हज़रत के क़ुर्बान जाएँ
कि वो गुल हैं और उन में बू ग़ौस-ए-आ’ज़म

जमील ! अपने मुर्शिद के क़ुर्बान जाऊँ
कि वो गुल हैं और उन में बू ग़ौस-ए-आ’ज़म

शायर:
मौलाना जमील-उर-रहमान

ना’त-ख़्वाँ:
सय्यिद कैफ़ी अली रज़वी
मुहम्मद सादिक़ रज़वी
मुहम्मद हस्सान तहसीनी रज़वी

 

tere jad ki hai baarahwee.n, Gaus-e-aa’zam !
mili hai tujhe gyaarahwee.n, Gaus-e-aa’zam !

koi un ke rutbe ko kya jaanta hai
muhammad ke hai.n jaa-nashee.n Gaus-e-aa’zam

tu hai noor-o-aaina-e-mustafaai
nahi.n koi tujh sa hasee.n, Gaus-e-aa’zam !

hue auliya zee-sharaf garche laakho.n
magar sab se hai.n behtaree.n Gaus-e-aa’zam

jahaa.n auliya karte hai.n jab.ha-saai
wo baGdaad ki hai zamee.n, Gaus-e-aa’zam !

tere rauza-e-paak ke dekhne ko
ta.Dapta hai qalb-e-hazee.n, Gaus-e-aa’zam !

mujhe bhi bula lo, KHuda-ra ! ki mai.n bhi
ghisu.n aastaa.n par jabee.n, Gaus-e-aa’zam !

hame.n bhi bula lo, KHuda-ra ! ki ham bhi
ghise.n aastaa.n par jabee.n, Gaus-e-aa’zam !

mere qalb ka haal kya poochhte ho
ye dil hai makaa.n aur makee.n Gaus-e-aa’zam

jo ahl-e-nazar hai.n, wahi jaante hai.n
ki har dam hai.n sab se qaree.n Gaus-e-aa’zam

hamaari bhi lillah big.Di bana do
Gulaamo.n ke tum ho mu’ee.n, Gaus-e-aa’zam !

hai.n ghere hue chaar jaanib se dushman
KHuda-ra bacha mera dee.n, Gaus-e-aa’zam !

chhupa le mujhe apne daaman ke neeche
ki Gam ki ghaTaae.n uThi.n, Gaus-e-aa’zam !

wo hai kaun saa un ke dar ka bhikaari
madadgaar jis ke nahee.n Gaus-e-aa’zam

husain-o-hasan ki to aankho.n ka taara
wo KHaatim hai.n aur tu nagee.n, Gaus-e-aa’zam !

hukoomat teri naafiza hai ki haq ne
tujhe di hai fat.h-e-mubee.n, Gaus-e-aa’zam !

tujhe sab ne jaana, tujhe sab ne maana
teri sab me.n dhoome.n machee.n, Gaus-e-aa’zam !

tu wo hai tere paak talwe ke aage
KHinchi gardane.n jhuk gaee.n, Gaus-e-aa’zam !

na the mutlaqan auliya jis se waaqif
tujhe ne’mate.n wo milee.n, Gaus-e-aa’zam !

teri zaat se, ai sharee’at ke haami !
tareeqat ki ramze.n khulee.n, Gaus-e-aa’zam !

sharee’at, tareeqat ke har silsile me.n
hai.n teri hi nahre.n bahee.n, Gaus-e-aa’zam !

Gam-o-ranj me.n naam tera liya jab
to kaliya.n dilo.n ki khilee.n, Gaus-e-aa’zam !

karam gar karo, mere madafan me.n aao
to ho qabr KHuld-e-baree.n, Gaus-e-aa’zam !

ilaahi ! tera kalma-e-paak mujh ko
sikhaae.n dam-e-waapsee.n Gaus-e-aa’zam

ba-soo-e-Jameel az-nigaah-e-‘inaayat
ba-bee.n, Gaus-e-aa’zam ! ba-bee.n Gaus-e-aa’zam !

wahaa.n sar jhukaate hai.n sab unche unche
jahaa.n hai tera naqsh-e-paa, Gaus-e-aa’zam !

husain-o-hasan phool baaG-e-nabi ke
usi baaG ka tu hai phal, Gaus-e-aa’zam !

saro.n par jise lete hai.n taaj waale
tumhaara qadam hai wo, Gaus-e-aa’zam !

do ‘aalam me.n hai kaun haami hamaara
yahaa.n Gaus-e-aa’zam, wahaa.n Gaus-e-aa’zam

Jameel ! aa’la hazrat ke qurbaan jaae.n
ki wo gul hai.n aur un me.n boo Gaus-e-aa’zam

Jameel ! apne murshid ke qurbaan jaau.n
ki wo gul hai.n aur un me.n boo Gaus-e-aa’zam

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *