Teri Zaat Mein Bhi Kamaal Hai Teri Baat Mein Bhi Kamaal Hai Naat Lyrics

Teri Zaat Mein Bhi Kamaal Hai Teri Baat Mein Bhi Kamaal Hai Naat Lyrics

 

 

तेरी ज़ात में भी कमाल है
तेरी बात में भी कमाल है
तेरी ज़ात की, तेरी बात की
न नज़ीर है, न मिसाल है

या मुस्तफ़ा ! ख़ैरुल-वरा !
सल्ले ‘अला ! सल्ले ‘अला !

वही ज़िंदगी है ‘अज़ीज़-तर
तेरी याद में जो हुई बसर
तेरी याद बिन जो गुज़र गया
वो तो एक लम्हा, वबाल है

या मुस्तफ़ा ! ख़ैरुल-वरा !
सल्ले ‘अला ! सल्ले ‘अला !

मेरा शौक़ जिस में जवाँ हुआ
मैं मदीने को जो रवाँ हुआ
वही ख़ूब-तर, वही बेहतरीं
मेरी ज़िंदगी का वो साल है

या मुस्तफ़ा ! ख़ैरुल-वरा !
सल्ले ‘अला ! सल्ले ‘अला !

तेरे प्यार में जो फ़ना हुआ
तेरा क़ुर्ब जिस को ‘अता हुआ
कोई बू-बकर, कोई फ़ारसी
कोई सा’द, कोई बिलाल है

या मुस्तफ़ा ! ख़ैरुल-वरा !
सल्ले ‘अला ! सल्ले ‘अला !

मेरी जान से तू क़रीब है
मैं मरीज़ हूँ, तू तबीब है
तेरा नाम ही मेरा आसरा
तेरा नाम ही मेरी ढाल है

या मुस्तफ़ा ! ख़ैरुल-वरा !
सल्ले ‘अला ! सल्ले ‘अला !

मैं था एक नासिर-ए-बे-नवा
मुझे तू ने अपना बना लिया
मेरे हाल से है तू बा-ख़बर
तेरे सामने मेरा हाल है

या मुस्तफ़ा ! ख़ैरुल-वरा !
सल्ले ‘अला ! सल्ले ‘अला !

नात-ख़्वाँ:
असद रज़ा अत्तारी

teri zaat me.n bhi kamaal hai
teri baat me.n bhi kamaal hai
teri zaat ki, teri baat ki
na nazeer hai, na misaal hai

ya mustafa ! KHairul-wara !
salle ‘ala ! salle ‘ala !

wahi zindagi hai ‘azeez-tar
teri yaad me.n jo hui basar
teri yaad bin jo guzar gaya
wo to ek lamha, wabaal hai

ya mustafa ! KHairul-wara !
salle ‘ala ! salle ‘ala !

mera shauq jis me.n jawaa.n huaa
mai.n madine ko jo rawaa.n huaa
wahi KHoob-tar, wahi behtaree.n
meri zindagi ka wo saal hai

ya mustafa ! KHairul-wara !
salle ‘ala ! salle ‘ala !

tere pyaar me.n jo fana huaa
tera qurb jis ko ‘ata huaa
koi boo-bakar, koi faarsi
koi saa’d, koi bilaal hai

ya mustafa ! KHairul-wara !
salle ‘ala ! salle ‘ala !

meri jaan se tu qareeb hai
mai.n mareez hu.n, tu tabeeb hai
tera naam hi mera aasra
tera naam hi meri Dhaal hai

ya mustafa ! KHairul-wara !
salle ‘ala ! salle ‘ala !

mai.n tha ek Naasir-e-be-nawa
mujhe tu ne apna bana liya
mere haal se hai tu baa-KHabar
tere saamne mera haal hai

ya mustafa ! KHairul-wara !
salle ‘ala ! salle ‘ala !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *