Tu Ne Batil Ko Mitaya Ai Imam Ahmad Raza Naat Lyrics

Tu Ne Batil Ko Mitaya Ai Imam Ahmad Raza Naat Lyrics

 

तू ने बातिल को मिटाया, ऐ इमाम अहमद रज़ा !
दीन का डंका बजाया, ऐ इमाम अहमद रज़ा !

ज़ोर बातिल का, ज़लालत का था जिस दम हिन्द में
तू मुजद्दिद बन के आया, ऐ इमाम अहमद रज़ा !

अहल-ए-सुन्नत का चमन सर-सब्ज़ था, शादाब था
ताज़गी तू और लाया, ऐ इमाम अहमद रज़ा !

तू ने बातिल को मिटा कर दीन को बख़्शी जिला
सुन्नतों को फिर जिलाया, ऐ इमाम अहमद रज़ा !

ए इमाम-ए-अहल-ए-सुन्नत नाइब-ए-शाह-ए-उमम
कीजिए हम पर भी साया, ऐ इमाम अहमद रज़ा !

‘इल्म का चश्मा हुवा है मौज-ज़न तहरीर में
जब क़लम तू ने उठाया, ऐ इमाम अहमद रज़ा !

हश्र तक जारी रहेगा फ़ैज़, मुर्शिद ! आप का
फ़ैज़ का दरिया बहाया, ऐ इमाम अहमद रज़ा !

है ब-दरगाह-ए-ख़ुदा ‘अत्तार-ए-‘आजिज़ की दु’आ
तुझ पे हो रहमत का साया, ऐ इमाम अहमद रज़ा !

शायर:
मुहम्मद इल्यास अत्तार क़ादरी

ना’त-ख़्वाँ:
मुहम्मद अश्फ़ाक़ अत्तारी
मौलाना बिलाल रज़ा क़ादरी
असद रज़ा अत्तारी

 

tu ne baatil ko miTaaya, ai imaam ahmad raza !
deen ka Danka bajaaya, ai imaam ahmad raza !

zor baatil ka, zalaalat ka tha jis dam hind me.n
tu mujaddid ban ke aaya, ai imaam ahmad raza !

ahl-e-sunnat ka chaman sar-sabz tha, shaadaab tha
taazgi tu aur laaya, ai imaam ahmad raza !

tu ne baatil ko miTa kar deen ko baKHshi jila
sunnato.n ko phir jilaaya, ai imaam ahmad raza !

ai imaam-e-ahl-e-sunnat naaib-e-shaah-e-umam
kijiye ham par bhi saaya, ai imaam ahmad raza !

‘ilm ka chashma huwa hai mauj-zan tahreer me.n
jab qalam tu ne uThaaya, ai imaam ahmad raza !

hashr tak jaari rahega faiz, murshid ! aap ka
faiz ka dariya bahaaya, ai imaam ahmad raza !

hai ba-dargaah-e-KHuda ‘Attar-e-‘aajiz ki du’aa
tujh pe ho rahmat ka saaya, ai imaam ahmad raza !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *