Tu Sham-e-Risalat Hai Aalam Tera Parwana Naat Lyrics

Tu Sham-e-Risalat Hai Aalam Tera Parwana Naat Lyrics

 

तू शम’-ए-रिसालत है, ‘आलम तेरा परवाना
तू माह-ए-नुबुव्वत है, ऐ जल्वा-ए-जानाना !

जो साक़ी-ए-कौसर के चेहरे से नक़ाब उठे
हर दिल बने मय-ख़ाना, हर आँख हो पैमाना

दिल अपना चमक उठे ईमान की तल’अत से
कर आँखें भी नूरानी, ऐ जल्वा-ए-जानाना !

सरशार मुझे कर दे इक जाम-ए-लबालब से
ता-हश्र रहे, साक़ी ! आबाद ये मय-ख़ाना

तुम आए छटी बाज़ी, रौनक़ हुई फिर ताज़ी
का’बा हुवा फिर का’बा, कर डाला था बुत-ख़ाना

उस दर की हुज़ूरी ही ‘इस्याँ की दवा ठहरी
है ज़हर-ए-म’आसी का तयबा ही शिफ़ा-ख़ाना

हर फूल में बू तेरी, हर शम’अ में ज़ौ तेरी
बुलबुल है तेरा बुलबुल, परवाना है परवाना

पीते हैं तेरे दर का, खाते हैं तेरे दर का
पानी है तेरा पानी, दाना है तेरा दाना

संग-ए-दर-जानाँ पर करता हूँ जबीं-साई
सज्दा न समझ, नज्दी ! सर देता हूँ नज़राना

गिर पड़ के यहाँ पहुँचा, मर मर के इसे पाया
छूटे न, इलाही ! अब संग-ए-दर-ए-जानाना

वो कहते न कहते कुछ, वो करते न करते कुछ
ऐ काश ! वो सुन लेते, मुझ से मेरा अफ़साना

आँखों में मेरे तू आ और दिल में मेरे बस जा
दिल-शाद मुझे फ़रमा, ऐ जल्वा-ए-जानाना !

आबाद इसे फ़रमा, वीराँ है दिल-ए-नूरी
जल्वे तेरे बस जाएँ, आबाद हो वीराना

सरकार के जल्वों से रौशन है दिल-ए-नूरी
ता-हश्र रहे रौशन नूरी का ये काशाना

शायर:
मुस्तफ़ा रज़ा ख़ान

ना’त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी
मुश्ताक़ क़ादरी
असद इक़बाल

 

tu sham’-e-risaalat hai, ‘aalam tera parwaana
tu maah-e-nubuwwat hai, ai jalwa-e-jaanaana !

jo saaqi-e-kausar ke chehre se naqaab uThe
har dil bane mai-KHaana, har aankh ho paimaana

dil apna chamak uThe imaan ki tal’at se
kar aankhe.n bhi nooraani, ai jalwa-e-jaanaana !

sarshaar mujhe kar de ik jaam-e-labaalab se
taa-hashr rahe, saaqi ! aabaad ye mai-KHaana

tum aae chhaTi baazi, raunaq hui phir taazi
kaa’ba huwa phir kaa’ba, kar Daala tha but-KHaana

us dar ki huzoori hi ‘isyaa.n ki dawa Thahri
hai zahr-e-ma’aasi ka tayba hi shifa-KHaana

har phool me.n boo teri, har sham’a me.n zau teri
bulbul hai tera bulbul, parwaana hai parwaana

peete hai.n tere dar ka, khaate hai.n tere dar ka
paani hai tera paani, daana hai tera daana

sang-e-dar-e-jaanaa.n par karta hu.n jabee.n-saai
sajda na samajh, najdi ! sar deta hu.n nazraana

gir pa.D ke yahaa.n pahuncha, mar mar ke ise paaya
chhooTe na, ilaahi ! ab sang-e-dar-e-jaanaana

wo kehte na kehte kuchh, wo karte na karte kuchh
ai kaash ! wo sun lete, mujh se mera afsaana

aankho.n me.n mere tu aa aur dil me.n mere bas jaa
dil-shaad mujhe farma, ai jalwa-e-jaanaana !

aabaad ise farma, weeraa.n hai dil-e-Noori
jalwe tere bas jaae.n, aabaad ho weeraana

sarkaar ke jalwo.n se raushan hai dil-e-Noori
taa-hashr rahe raushan Noori ka ye kaashaana

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *