Tum Sirf Bashar Ho Ya Noor-e-Khuda Ho Tum Aakhir Kya Ho Tum Aakhir Kya Ho

Tum Sirf Bashar Ho Ya Noor-e-Khuda Ho Tum Aakhir Kya Ho Tum Aakhir Kya Ho

 

 

तुम सिर्फ़ बशर हो या नूर-ए-ख़ुदा हो ?
तुम आख़िर क्या हो ? तुम आख़िर क्या हो ?
क़ुरआँ भी तुम्हारा ख़ुद मदह-सरा हो
तुम आख़िर क्या हो ? तुम आख़िर क्या हो ?

जिब्रील ये बोले, एक तारा देखा
फ़रमाया नबी ने, वो तारा मैं था
फिर ताइर-ए-सिदरा ये सोच रहा हो
तुम आख़िर क्या हो ? तुम आख़िर क्या हो ?

जन्नत पे हुकूमत, कौसर पे हुकूमत
शहरों पे हुकूमत, घर घर पे हुकूमत
एक टूटी चटाई पर जल्वा-नुमा हो
तुम आख़िर क्या हो ? तुम आख़िर क्या हो ?

हर सम्त हो ज़ाहिर, हर दिल में हो पिन्हाँ
हैरान नज़र है और ‘अक़्ल परेशाँ
तुम मंज़िल हो या मंज़िल का पता हो ?
तुम आख़िर क्या हो ? तुम आख़िर क्या हो ?

वश्शम्स है चेहरा, वल्लैल हैं ज़ुल्फ़ें
वन्नज्म हैं दंदाँ, मा-ज़ाग़ हैं आँखें
क़ुरआँ के सिपारों में जल्वा-नुमा हो
तुम आख़िर क्या हो ? तुम आख़िर क्या हो ?

तुम ने’मत-ए-रब हो, तुम फ़ख़्र-ए-‘अरब हो
तुम उम्मी लक़ब हो, तुम ‘आली नसब हो
तुम जैसा किसी ने देखा न सुना हो
तुम आख़िर क्या हो ? तुम आख़िर क्या हो ?

है तुम को शजर ने आँखों में सजाया
और ‘इश्क़ तुम्हारा है दिल में बसाया
तुम आँख की ठंडक, तुम दिल की जिला हो
तुम आख़िर क्या हो ? तुम आख़िर क्या हो ?

शायर:
सय्यिद शजर अली मकनपुरी

ना’त-ख़्वाँ:
सय्यिद शजर अली मकनपुरी

 

tum sirf bashar ho ya noor-e-KHuda ho ?
tum aaKHir kya ho ? tum aaKHir kya ho ?
qur.aa.n bhi tumhaara KHud mad.h-saraa ho
tum aaKHir kya ho ? tum aaKHir kya ho ?

jibreel ye bole, ek taara dekha
farmaaya nabi ne, wo taara mai.n tha
phir taa.ir-e-sidra ye soch raha ho
tum aaKHir kya ho ? tum aaKHir kya ho ?

jannat pe hukoomat, kausar pe hukoomat
shahro.n pe hukoomat, ghar ghar pe hukoomat
ek Tooti chaTaai par jalwa-numa ho
tum aaKHir kya ho ? tum aaKHir kya ho ?

har samt ho zaahir, har dil me.n ho pinhaa.n
hairaan nazar hai aur ‘aql pareshaa.n
tum manzil ho ya manzil ka pataa ho ?
tum aaKHir kya ho ? tum aaKHir kya ho ?

washshams hai chehra, wallail hai.n zulfe.n
wannajm hai.n dandaa.n, maa-zaaG hai.n aankhe.n
qur.aa.n ke sipaaro.n me.n jalwa-numa ho
tum aaKHir kya ho ? tum aaKHir kya ho ?

tum ne’mate rab ho, tum faKHr-e-‘arab ho
tum ummi laqab ho, tum ‘aali nasab ho
tum jaisa kisi ne dekha na suna ho
tum aaKHir kya ho ? tum aaKHir kya ho ?

hai tum ko Shajar ne aankho.n me.n sajaaya
aur ‘ishq tumhaara hai dil me.n basaaya
tum aankh ki Thandak, tum dil ki jila ho
tum aaKHir kya ho ? tum aaKHir kya ho ?

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *