Utha Alam Husain Ka Naat Lyrics

Utha Alam Husain Ka Naat Lyrics

 

दीन को बचाने वाला कौन है ? हुसैन है
वा’दे को निभाने वाला कौन है ? हुसैन है
राह-ए-हक़ में सर कटाने के लिए
कर्बला में जाने वाला कौन है ? हुसैन है

उठा ‘अलम हुसैन का ! उठा ‘अलम हुसैन का !
उठा ‘अलम हुसैन का ! उठा ‘अलम हुसैन का !

सितम की जलती आग पर वो शान से खड़ा रहा
जफ़ा के तीर खा के भी वो सब्र से अड़ा रहा
वो अपनी जाँ हथेली पर लिए हुए डटा रहा
है जुरअतों की राह पर क़दम क़दम हुसैन का

उठा ‘अलम हुसैन का ! उठा ‘अलम हुसैन का !
उठा ‘अलम हुसैन का ! उठा ‘अलम हुसैन का !

हज़ार आँधियाँ चली, हज़ार इम्तिहाँ हुए
चराग़-ए-हक़ वो थाम कर सभी को पार कर गए
न तोड़ पाई मौत भी इरादे और हौसले
किसी सितम के आगे सर हुआ न ख़म हुसैन का

उठा ‘अलम हुसैन का ! उठा ‘अलम हुसैन का !
उठा ‘अलम हुसैन का ! उठा ‘अलम हुसैन का !

रवाँ-दवाँ जो मोमिनों के ख़ून में ये जोश है
जफ़ा हज़ार है मगर वफ़ा कफ़न-ब-दोश है
दिलों में दीन के लिए जो ‘इश्क़-ए-सरफ़रोश है
किया हुआ है जोश-ए-हक़ ये सब रक़म हुसैन का

उठा ‘अलम हुसैन का ! उठा ‘अलम हुसैन का !
उठा ‘अलम हुसैन का ! उठा ‘अलम हुसैन का !

हैं सज्दे में हुज़ूर और पुश्त पर हुसैन हैं
उठाया सर न आक़ा ने ये सोच कर हुसैन हैं
दिल-ए-रसूल-ए-पाक को ‘अज़ीज़-तर हुसैन हैं
ख़याल कितना रखते थे शह-ए-उमम हुसैन का

उठा ‘अलम हुसैन का ! उठा ‘अलम हुसैन का !
उठा ‘अलम हुसैन का ! उठा ‘अलम हुसैन का !

ब-रोज़-ए-हश्र ख़ुल्द में वो हम को ले के जाएँगे
वहाँ भी या हुसैन के तराने गुनगुनाएँगे
उन्हीं के सामने हम उन की मन्क़बत सुनाएँगे
बहिश्त जिस को कहते हैं वो है हरम हुसैन का

उठा ‘अलम हुसैन का ! उठा ‘अलम हुसैन का !
उठा ‘अलम हुसैन का ! उठा ‘अलम हुसैन का !

हुसैनियो ! चलो उठो, हवा के रुख़ को मोड़ दें
सितम के सारे सिलसिले को आओ मिल के तोड़ दें
बिछड़ गए जो हम से, आओ उन दिलों को जोड़ दें
निभाएँ तर्ज़-ए-ज़िंदगी, फ़रीदी ! हम हुसैन का

उठा ‘अलम हुसैन का ! उठा ‘अलम हुसैन का !
उठा ‘अलम हुसैन का ! उठा ‘अलम हुसैन का !

शायर:
अल्लामा सलमान रज़ा फ़रीदी मिस्बाही

ना’त-ख़्वाँ:
अहमद-उल-फ़त्ताह

 

deen ko bachaane waala kaun hai ? husain hai
waa’de ko nibhaane waala kaun hai ? husain hai
raah-e-haq me.n sar kaTaane ke lie
karbala me.n jaane waala kaun hai ? husain hai

uTha ‘alam husain ka ! uTha ‘alam husain ka !
uTha ‘alam husain ka ! uTha ‘alam husain ka !

sitam ki jalti aag par wo shaan se kha.Da raha
jafa ke teer khaa ke bhi wo sabr se a.Da raha
wo apni jaa.n hatheli par lie hue DaTa raha
hai jur.ato.n ki raah par qadam qadam husain ka

uTha ‘alam husain ka ! uTha ‘alam husain ka !
uTha ‘alam husain ka ! uTha ‘alam husain ka !

hazaar aandhiyaa.n chali, hazaar imtihaa.n hue
charaaG-e-haq wo thaam kar sabhi ko paar kar gae
na to.D paai maut bhi iraade aur hausle
kisi sitam ke aage sar huaa na KHam husain ka

uTha ‘alam husain ka ! uTha ‘alam husain ka !
uTha ‘alam husain ka ! uTha ‘alam husain ka !

rawaa.n-dawaa.n jo momino.n ke KHoon me.n ye josh hai
jafa hazaar hai magar wafa kafan-ba-dosh hai
dilo.n me.n deen ke lie jo ‘ishq-e-sarfarosh hai
kiya huaa hai josh-e-haq ye sab raqam husain ka

uTha ‘alam husain ka ! uTha ‘alam husain ka !
uTha ‘alam husain ka ! uTha ‘alam husain ka !

hai.n sajde me.n huzoor aur pusht par husain hai.n
uThaaya sar na aaqa ne ye soch kar husain hai.n
dil-e-rasool-e-paak ko ‘azeez-tar husain hai.n
KHayaal kitna rakhte the shah-e-umam husain ka

uTha ‘alam husain ka ! uTha ‘alam husain ka !
uTha ‘alam husain ka ! uTha ‘alam husain ka !

ba-roz-e-hashr KHuld me.n wo ham ko le ke jaaenge
wahaa.n bhi ya husain ke taraane gungunaaenge
unhi.n ke saamne ham un ki manqabat sunaaenge
bahisht jis ko kehte hai.n wo hai haram husain ka

uTha ‘alam husain ka ! uTha ‘alam husain ka !
uTha ‘alam husain ka ! uTha ‘alam husain ka !

husainiyo ! chalo uTho, hawa ke ruKH ko mo.D de.n
sitam ke saare silsile ko aao mil ke to.D de.n
bichha.D gae jo ham se, aao un dilo.n ko jo.D de.n
nibhaae.n tarz-e-zindagi, Fareedi ! ham husain ka

uTha ‘alam husain ka ! uTha ‘alam husain ka !
uTha ‘alam husain ka ! uTha ‘alam husain ka !

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *