Waah Kya Shaan Hai Ai Haafiz-e-Millat Teri Naat Lyrics

Waah Kya Shaan Hai Ai Haafiz-e-Millat Teri Naat Lyrics

 

 

वाह ! क्या शान है, ए हाफ़िज़-ए-मिल्लत ! तेरी
आसमाँ देख के हैरान है रिफ़’अत तेरी

बाग़-ए-फ़िरदौस की सूरत में ये दीनी क़िल’आ
सय्यिदि हाफ़िज़-ए-मिल्लत ! है करामत तेरी

तू ने इस बाग़ को है ख़ून-ए-जिगर से सींचा
ता-क़यामत रहे आबाद ये जन्नत तेरी

नाज़िश-ए-‘इल्म-ओ-‘अमल, पैकर-ए-ज़ोहद-ओ-तक़्वा
थी ढली सुन्नत-ए-सरकार में सीरत तेरी

अपने बेगाने उठा पाएँ न तुझ पर ऊँगली
कितनी पाकीज़ा थी, बुल-फ़ैज़ ! तबी’अत तेरी

अपने हासिद को दिया है न कभी तू ने जवाब
ख़िदमत-ए-ख़ल्क़ थी बस ‘आदत-ओ-फ़ितरत तेरी

सब से बढ़ कर है यही तेरी विलायत की दलील
याद आता था ख़ुदा देख के सूरत तेरी

तेरे मज़हर हैं ये ‘अल्लामा मुहम्मद अहमद
इन में आती है नज़र फ़िक्र-ओ-बसीरत तेरी

कासा-ए-दिल लिए हाज़िर है ये क़ासिम दर पर
इस पे हो जाए, शहा ! नज़र-ए-‘इनायत तेरी

शायर:
मौलाना मुहम्मद क़ासिम निज़ामी मिस्बाही

ना’त-ख़्वाँ:
क़ारी तय्यब अत्तारी

 

waah ! kya shaan hai, ai haafiz-e-millat ! teri
aasmaa.n dekh ke hairaan hai rif’at teri

baaG-e-firdaus ki soorat me.n ye deenee qil’aa
sayyidi haafiz-e-millat ! hai karaamat teri

tu ne is baaG ko hai KHoon-e-jigar se seencha
taa-qayaamat rahe aabaad ye jannat teri

naazish-e-‘ilm-o-‘amal, paikar-e-zohd-o-taqwa
thi Dhali sunnat-e-sarkaar me.n seerat teri

apne begaane uTha paae.n na tujh par ungli
kitni paakeeza thi, bul-faiz ! tabee’at teri

apne haasid ko diya hai na kabhi tu ne jawaab
KHidmat-e-KHalq thi bas ‘aadat-o-fitrat teri

sab se ba.Dh kar hai yahi teri wilaayat ki daleel
yaad aata tha KHuda dekh ke soorat teri

tere maz.har hai.n ye ‘allama muhammad ahmad
in me.n aati hai nazar fikr-o-baseerat teri

kaasa-e-dil liye haazir hai ye Qaasim dar par
is pe ho jaae, shahaa ! nazr-e-‘inaayat teri

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *