Wah Kya Baat Ala Hazrat Ki Naat Lyrics

Wah Kya Baat Ala Hazrat Ki Naat Lyrics

 

 

Wah Kya Baat Ala Hazrat Ki | Main Hoon Sunni Mera Dil Hai Diwana Ala Hazrat Ka

 

 

मेरे आक़ा-ओ-मौला ! सरकार आ’ला हज़रत !
मेरे आक़ा-ओ-मौला ! सरकार आ’ला हज़रत !

लाख जलते रहें दुश्मनान-ए-रज़ा
कम न होंगे कभी मद्ह-ख़्वान-ए-रज़ा
कह रहे हैं सभी ‘आशिक़ान-ए-रज़ा
मस्लक-ए-आ’ला-हज़रत सलामत रहे

वाह ! क्या बात आ’ला हज़रत की !
वाह ! क्या बात आ’ला हज़रत की !

मैं हूँ सुन्नी, मेरा दिल है दीवाना आ’ला हज़रत का
मेरा मर्कज़ बना है आस्ताना आ’ला हज़रत का

नबी के ‘इश्क़ में क़ुर्बान कर दी ज़िंदगी जिस ने
ज़माना जानता है ‘आशिक़ाना आ’ला हज़रत का

वाह ! क्या बात आ’ला हज़रत की !
वाह ! क्या बात आ’ला हज़रत की !

रोज़-ए-महशर अगर मुझ से पूछे ख़ुदा
बोल आल-ए-रसूल तू लाया है क्या ?
अर्ज़ कर दूँगा, लाया हूँ अहमद रज़ा
या ख़ुदा ! ये अमानत सलामत रहे

वाह ! क्या बात आ’ला हज़रत की !
वाह ! क्या बात आ’ला हज़रत की !

कभी भी आप ने ग़ैरों के हक़ में कुछ नहीं लिखा
नबी के वास्ते था शा’इराना आ’ला हज़रत का

गिरा देते हैं गुस्ताख़-ए-नबी को इक ही हमले में
कभी ख़ाली नहीं जाता निशाना आ’ला हज़रत का

वाह ! क्या बात आ’ला हज़रत की !
वाह ! क्या बात आ’ला हज़रत की !

अहल-ए-ईमान ! तू क्यूँ परेशान है
रहबरी को तेरी कंज़ुल-ईमान है
हर क़दम पर ये तेरा निगहबान है
या ख़ुदा ! ये अमानत सलामत रहे

वो जीती-जागती तस्वीर थे तक़्वा, तहारत के
था किर्दार-ए-मुक़द्दस सूफ़ियाना आ’ला हज़रत का

कोई है मुफ़्ती-ए-आ’ज़म, कोई ताजु-श्शरी’आ है
अलग है ओर घरानों से घराना आ’ला हज़रत का

वाह ! क्या बात आ’ला हज़रत की !
वाह ! क्या बात आ’ला हज़रत की !

ना’रा फ़ैज़-ए-रज़ा का लगाते रहो
मुन्किरों के दिलों को जलाते रहो
और कलाम-ए-रज़ा तुम सुनाते रहो
फ़ैज़-ए-अहमद-रज़ा ता-क़यामत रहे

नबी के नाम का सदक़ा लुटाते हैं वो रोज़ाना
मगर होता नहीं है कम ख़ज़ाना आ’ला हज़रत का

रसूल-ए-पाक के गुस्ताख़ से थी दुश्मनी उन की
था ‘उश्शाक़-ए-नबी से दोस्ताना आ’ला हज़रत का

मैं नाज़ाँ हूँ कि, ए ‘आसिम ! दयार-ए-आ’ला-हज़रत में
बि-हम्दिल्लाह ! लिखा मैं ने फ़साना आ’ला हज़रत का

वाह ! क्या बात आ’ला हज़रत की !
वाह ! क्या बात आ’ला हज़रत की !

शायर:
मुहम्मद आसिम-उल-क़ादरी रज़वी

ना’त-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी और
हाफ़िज़ अहसन क़ादरी

 

mere aaqa-o-maula ! sarkaar aa’la hazrat !
mere aaqa-o-maula ! sarkaar aa’la hazrat !

laakh jalte rahe.n dushmanaan-e-raza
kam na honge kabhi mad.h-KHwaan-e-raza
kah rahe hai.n sabhi ‘aashiqaan-e-raza
maslak-e-aa’la-hazrat salaamat rahe

waah ! kya baat aa’la hazrat ki !
waah ! kya baat aa’la hazrat ki !

mai.n hu.n sunni, mera dil hai deewaana aa’la hazrat ka
mera markaz bana hai aastaana aa’la hazrat ka

nabi ke ‘ishq me.n qurbaan kar di zindagi jis ne
zamaana jaanta hai ‘aashiqaana aa’la hazrat ka

waah ! kya baat aa’la hazrat ki !
waah ! kya baat aa’la hazrat ki !

roz-e-mahshar agar mujh se poochhe KHuda
bol aal-e-rasool tu laaya hai kya ?
arz kar doonga, laaya hu.n ahmad raza
ya KHuda ! ye amaanat salaamat rahe

waah ! kya baat aa’la hazrat ki !
waah ! kya baat aa’la hazrat ki !

kabhi bhi aap ne Gairo.n ke haq me.n kuchh nahi.n likha
nabi ke waaste thaa shaa’iraana aa’la hazrat ka

gira dete hai.n gustaaKH-e-nabi ko ik hi hamle me.n
kabhi KHaali nahi.n jaata nishaana aa’la hazrat ka

waah ! kya baat aa’la hazrat ki !
waah ! kya baat aa’la hazrat ki !

ahl-e-imaan ! tu kyu.n pareshaan hai
rahbari ko teri kanz-ul-imaan hai
har qadam par ye tera nigahbaan hai
ya KHuda ! ye amaanat salaamat rahe

wo jeeti-jaagti tasweer the taqwa, tahaarat ke
tha kirdaar-e-muqaddas soofiyaana aa’la hazrat ka

koi hai mufti-e-aa’zam, koi taaju-shsharee’aa hai
alag hai or gharaano.n se gharaana aa’la hazrat ka

waah ! kya baat aa’la hazrat ki !
waah ! kya baat aa’la hazrat ki !

naa’ra faiz-e-raza ka lagaate raho
munkiro.n ke dilo.n ko jalaate raho
aur kalaam-e-raza tum sunaate raho
faiz-e-ahmad-raza taa-qayaamat rahe

nabi ke naam ka sadqa luTaate hai.n wo rozaana
magar hota nahi.n hai kam KHazaana aa’la hazrat ka

rasool-e-paak ke gustaaKH se thi dushmani un ki
thaa ‘ushshaaq-e-nabi se dostaana aa’la hazrat ka

mai.n naazaa.n hu.n ki, ai ‘Aasim ! dayaar-e-aa’la hazrat me.n
bi-hamdillah ! likha mai.n ne fasaana aa’la hazrat ka

waah ! kya baat aa’la hazrat ki !
waah ! kya baat aa’la hazrat ki !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *