Waqt-e-Aakhir Huzoor Aa Jaana Naat Lyrics

Waqt-e-Aakhir Huzoor Aa Jaana Naat Lyrics

 

आक़ा ! आक़ा ! आक़ा ! आ जाना

मेरी आँख में समाना, मदनी मदीने वाले !
बने दिल तेरा ठिकाना, मदनी मदीने वाले !

ये मरीज़ मर रहा है, तेरे हाथ में शिफ़ा है
ए तबीब ! जल्द आना, मदनी मदीने वाले !

वक़्त-ए-आख़िर, हुज़ूर ! आ जाना
अपना जल्वा मुझे दिखा जाना

वक़्त-ए-आख़िर, हुज़ूर ! आ जाना

मेरे मदफ़न में रौशनी के लिए
आ के इक बार मुस्कुरा जाना

वक़्त-ए-आख़िर, हुज़ूर ! आ जाना

एक मुद्दत से प्यासी हैं आँखें
जाम-ए-दीदार इन्हें पिला जाना

वक़्त-ए-आख़िर, हुज़ूर ! आ जाना

सकरात का ‘आलम है, शहा ! दम है लबों पर
तशरीफ़ सिरहाने अब लाइए, आक़ा !

दम मेरा तेरे रू-ब-रू निकले
हसरत-ए-दिल मेरी मिटा, जाना !

वक़्त-ए-आख़िर, हुज़ूर ! आ जाना

‘अर्ज़ कर देना मेरा उन से सलाम
जब मदीने में, ए सबा ! जाना

वक़्त-ए-आख़िर, हुज़ूर ! आ जाना

तेरी फ़ुर्क़त में कब तलक झेलूँ
दर्द की मेरे कर दवा, जाना !

वक़्त-ए-आख़िर, हुज़ूर ! आ जाना

लोग कहते हैं मेरा कोई नहीं
आप मेरे हैं ये बता जाना

वक़्त-ए-आख़िर, हुज़ूर ! आ जाना

ला के तशरीफ़ ख़्वाब-ए-अहमद में
अपनी चादर भी कर ‘अता, जाना !

वक़्त-ए-आख़िर, हुज़ूर ! आ जाना

ना’त-ख़्वाँ:
असद रज़ा अत्तारी

 

aaqa ! aaqa ! aaqa ! aa jaana

meri aankh me.n samaana
madani madine waale !
bane dil tera Thikaana
madani madine waale !

ye mareez mar raha hai
tere haath me.n shifa hai
ai tabeeb ! jald aana
madani madine waale !

waqt-e-aaKHir, huzoor ! aa jaana
apna jalwa mujhe dikha jaana

waqt-e-aaKHir, huzoor ! aa jaana

mere madafan me.n raushni ke liye
aa ke ik baar muskura jaana

waqt-e-aaKHir, huzoor ! aa jaana

ek muddat se pyaasi hai.n aankhe.n
jaam-e-deedaar inhe.n pila jaana

waqt-e-aaKHir, huzoor ! aa jaana

sakraat ka ‘aalam hai, shaha ! dam hai labo.n par
tashreef sirhaane ab laa.iye, aaqa !

dam mera tere roo-ba-roo nikle
hasrat-e-dil meri miTa, jaana !

waqt-e-aaKHir, huzoor ! aa jaana

‘arz kar dena mera un se salaam
jab madine me.n, ai saba ! jaana

waqt-e-aaKHir, huzoor ! aa jaana

teri furqat me.n kab talak jheloo.n
dard ki mere kar dawa, jaana !

waqt-e-aaKHir, huzoor ! aa jaana

log kehte hai.n mera koi nahi.n
aap mere hai.n ye bata jaana

waqt-e-aaKHir, huzoor ! aa jaana

laa ke tashreef KHwaab-e-Ahmad me.n
apni chaadar bhi kar ‘ata, jaana !

waqt-e-aaKHir, huzoor ! aa jaana

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *