Yaad-e-Mustafa Aisi Bas Gai Hai Seene Mein Naat Lyrics

Yaad-e-Mustafa Aisi Bas Gai Hai Seene Mein Naat Lyrics

 

 

याद-ए-मुस्तफ़ा ऐसी बस गई है सीने में
जिस्म हो कहीं अपना, दिल तो है मदीने में

याद-ए-मुस्तफ़ा ऐसी बस गई है सीने में
जिस्म तो यहीं है अपना, दिल तो है मदीने में

मेरे मदनी आक़ा का घर तो है मदीने में
हाँ ! मगर वो रहते हैं ‘आशिक़ों के सीने में

बा’द मेरे मरने के सारे लोग यूँ बोले
आदमी वो अच्छा था, जो मर गया मदीने में

कौन है ये दीवाना ? किस का है ये दीवाना ?
हश्र में भी कहता है जाना है मदीने में

कौन है ये दीवाना ? किस का है ये दीवाना ?
महशर में भी कहता है कि जाना है मदीने में

कौन सी जगह उन के ‘आशिक़ों से ख़ाली है
हर जगह है परवाने, शम’अ है मदीने में

कितना प्यारा सीना है, बस गया मदीना है
प्यारे तयबा वाले हैं जो रहते हैं मदीने में

काश ! उन के कूचे से लाए ये सबा पैग़ाम
चल तुझे बुलाते हैं मुस्तफ़ा मदीने में

ना’त-ख़्वाँ:
असद रज़ा अत्तारी
अहमद रज़ा अत्तारी क़ादरी
मुहम्मद बग़दाद रज़ा क़ादरी

 

yaad-e-mustafa aisi bas gai hai seene me.n
jism ho kahi.n apna, dil to hai madine me.n

yaad-e-mustafa aisi bas gai hai seene me.n
jism to yahi.n hai apna, dil to hai madine me.n

mere madani aaqa ka ghar to hai madine me.n
haa.n ! magar wo rehte hai.n ‘aashiqo.n ke seene me.n

baa’d mere marne ke saare log yu.n bole
aadmi wo achchha tha, jo mar gaya madine me.n

kaun hai ye deewaana ? kis ka hai ye deewaana ?
hashr me.n bhi kehta hai jaana hai madine me.n

kaun hai ye deewaana ? kis ka hai ye deewaana ?
mahshar me.n bhi kehta hai ki jaana hai madine me.n

kitna pyaara seena hai, bas gaya madina hai
pyaare tayba waale hai jo rehte hai.n madine me.n

kaash ! un ke kooche se laae ye saba paiGaam
chal tujhe bulaate hai.n mustafa madine me.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *