Ye Bil-Yaqeen Husain Hai Nabi Ka Noor-e-Ain Hai Naat Lyrics

Ye Bil-Yaqeen Husain Hai Nabi Ka Noor-e-Ain Hai Naat Lyrics

ये बिल-यक़ीं हुसैन है, नबी का नूर-ए-‘ऐन है
हुसैन ही हुसैन है, नबी का नूर-ए-‘ऐन है

लिबास है फटा हुवा, ग़ुबार में अटा हुवा
तमाम जिस्म-ए-नाज़नीं छिदा हुवा, कटा हुवा
ये कौन ज़ी-वक़ार है ! बला का शह-सवार है !
कि है हज़ारों क़ातिलों के सामने डटा हुवा

ये बिल-यक़ीं हुसैन है, नबी का नूर-ए-‘ऐन है
हुसैन ही हुसैन है, नबी का नूर-ए-‘ऐन है

ये कौन हक़-परस्त है ? मय-ए-रज़ा-ए-मस्त है
कि जिस के सामने कोई बुलंद है न पस्त है
उधर हज़ार घात है, मगर अजीब बात है
कि एक से हज़ार-हा का हौसला शिकस्त है

ये बिल-यक़ीं हुसैन है, नबी का नूर-ए-‘ऐन है
हुसैन ही हुसैन है, नबी का नूर-ए-‘ऐन है

दिलावरी में फ़र्द है, बड़ा ही शेर-मर्द है
कि जिस के दबदबे से रंग दुश्मनों का ज़र्द है
हबीब-ए-मुस्तफ़ा है ये, मुजाहिद-ए-ख़ुदा है ये
जभी तो इस के सामने ये फ़ौज गर्द-बर्द है

ये बिल-यक़ीं हुसैन है, नबी का नूर-ए-‘ऐन है
हुसैन ही हुसैन है, नबी का नूर-ए-‘ऐन है

उधर सिपाह-ए-शाम है, हज़ार इंतिज़ाम है
उधर हैं दुश्मनान-ए-दीं, इधर फ़क़त इमाम है
मगर अजीब शान है, ग़ज़ब की आन-बान है
कि जिस तरफ़ उठी है तेग़ बस ख़ुदा का नाम है

ये बिल-यक़ीं हुसैन है, नबी का नूर-ए-‘ऐन है
हुसैन ही हुसैन है, नबी का नूर-ए-‘ऐन है

ये जिस की एक ज़र्ब से, कमाल-ए-फ़न्न-ए-हर्ब से
कई शक़ी गिरे हुए तड़प रहे हैं कर्ब से
ग़ज़ब है तेग़-ए-दो-सरा, कि एक एक वार पर
उठी सदा-ए-अल-अमाँ ज़बान-ए-शर्क़-ओ-ग़र्ब से

ये बिल-यक़ीं हुसैन है, नबी का नूर-ए-‘ऐन है
हुसैन ही हुसैन है, नबी का नूर-ए-‘ऐन है

‘अबा भी तार तार है, तो जिस्म भी फ़िगार है
ज़मीन भी तपी हुई, फ़लक भी शो’ला-बार है
मगर ये मर्द-ए-तेग़-ज़न, ये सफ़-शिकन, फ़लक-फ़िगन
कमाल-ए-सब्र-ओ-तन-दही से महव-ए-कार-ज़ार है

ये बिल-यक़ीं हुसैन है, नबी का नूर-ए-‘ऐन है
हुसैन ही हुसैन है, नबी का नूर-ए-‘ऐन है

शायर:
हफ़ीज़ जालंधरी

ना’त-ख़्वाँ:
नुसरत फ़तेह अली ख़ान
अमजद बल्तिस्तानी
मीलाद रज़ा क़ादरी
मुहम्मद हस्सान रज़ा क़ादरी


ye bil-yaqee.n husain hai, nabi ka noor-e-‘ain hai
husain hi husain hai, nabi ka noor-e-‘ain hai

libaas hai fata huwa, Gubaar me.n aTa huwa
tamaam jism-e-naaznee.n chhida huwa, kaTa huwa
ye kaun zee-waqaar hai ! bala ka shah-sawaar hai
ki hai hazaaro.n qaatilo.n ke saamne DaTa huwa

ye bil-yaqee.n husain hai, nabi ka noor-e-‘ain hai
husain hi husain hai, nabi ka noor-e-‘ain hai

ye kaun haq-parast hai ? may-e-riza-e-mast hai
ki jis ke saamne koi buland hai na past hai
udhar hazaar ghaat hai, magar ajeeb baat hai
ki ek se hazaar-haa ka hausla shikast hai

ye bil-yaqee.n husain hai, nabi ka noor-e-‘ain hai
husain hi husain hai, nabi ka noor-e-‘ain hai

dilaawari me.n fard hai, ba.Da hi sheer-mard hai
ki jis ke dabdabe se rang dushmano.n ka zard hai
habeeb-e-mustafa hai ye, mujaahid-e-KHuda hai ye
jabhi to is ke saamne ye fauj gard-bard hai

ye bil-yaqee.n husain hai, nabi ka noor-e-‘ain hai
husain hi husain hai, nabi ka noor-e-‘ain hai

udhar sipaah-e-shaam hai, hazaar intizaam hai
udhar hai.n dushmanaan-e-dee.n, idhar faqat imaam hai
magar ajeeb shaan hai, Gazab ki aan-baan hai
ki jis taraf uThi hai teG bas KHuda ka naam hai

ye bil-yaqee.n husain hai, nabi ka noor-e-‘ain hai
husain hi husain hai, nabi ka noor-e-‘ain hai

ye jis ki ek zarb se, kamaal-e-fann-e-harb se
kai shaqee gire hue ta.Dap rahe hai.n karb se
Gazab hai teG-e-do-saraa, ki ek ek waar par
uThi sada-e-al-amaa.n zabaan-e-sharq-o-Garb se

ye bil-yaqee.n husain hai, nabi ka noor-e-‘ain hai
husain hi husain hai, nabi ka noor-e-‘ain hai

‘aba bhi taar taar hai, to jism bhi figaar hai
zameen bhi tapi hui, falak bhi sho’la-baar hai
magar ye mard-e-teG-zan, ye saf-shikan, falak-figan
kamaal-e-sabr-o-tan-dahi se mahw-e-kaar-zaar hai

ye bil-yaqee.n husain hai, nabi ka noor-e-‘ain hai
husain hi husain hai, nabi ka noor-e-‘ain hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *