Ye Dil Bhi Husaini Hai Ye Jaan Bhi Husaini Hai Naat Lyrics

Ye Dil Bhi Husaini Hai Ye Jaan Bhi Husaini Hai Naat Lyrics

 

 

ये दिल भी हुसैनी है, ये जाँ भी हुसैनी है
सद-शुक्र कि अपना तो ईमाँ भी हुसैनी है

तू माने या न माने, अपना तो अक़ीदा है
हर क़ारी के होंटों पर क़ुरआँ भी हुसैनी है

रौनक़ है मसाजिद में शब्बीर के सदक़े से
मिम्बर भी हुसैनी है, आज़ाँ भी हुसैनी है

जिब्रील झुलाता है हसनैन के झूले को
लगता है कि आक़ा का दरबाँ भी हुसैनी है

गिरने नहीं देता है काँधों से नवासों को
क्या ख़ूब कि नबियों का सुल्ताँ भी हुसैनी है

धड़कन की नगरिया में देखा तो नज़र आया
हसरत भी हुसैनी है, अरमाँ भी हुसैनी है

तुम समझो या न समझो, ए अहल-ए-जहाँ ! लेकिन
है लब पे जो हाकिम के ये बयाँ भी हुसैनी है

शायर:
अहमद अली हाकिम

नात-ख़्वाँ:
मीलाद रज़ा क़ादरी
अहमद अली हाकिम
हसन बिन ख़ुर्शीद

 

ye dil bhi husaini hai, ye jaa.n bhi husaini hai
sad-shukr ki apna to imaa.n bhi husaini hai

tu maane ya na maane, apna to aqeeda hai
har qaari ke honto.n par qur.aa.n bhi husaini hai

raunaq hai masaajid me.n shabbir ke sadqe se
mimbar bhi husaini hai, aazaa.n bhi husaini hai

jibreel jhulaata hai hasnain ke jhoole ko
lagta hai ki aaqa ka darbaa.n bhi husaini hai

girne nahi.n deta hai kaandho.n se nawaaso.n ko
kya KHoob ki nabiyo.n ka sultaa.n bhi husaini hai

dha.Dkan ki nagariya me.n dekha to nazar aaya
hasrat bhi husaini hai, armaa.n bhi husaini hai

tum samjho ya na samjho, ai ahl-e-jahaa.n ! lekin
hai lab pe jo Haakim ke ye bayaa.n bhi husaini hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *