Ye Jashn-e-Habib-e-Khuda Ho Raha Hai Naat Lyrics

Ye Jashn-e-Habib-e-Khuda Ho Raha Hai Naat Lyrics

 

 

 

Ye Jashn-e-Habib-e-Khuda Ho Raha Hai | Ye Milad-e-Khair-ul-wara Ho Raha Hai

आ गए सरकार ! झूमो !
नबियों के सरदार ! झूमो !
दो जग के मुख़्तार ! झूमो !
हैं सब के ग़म-ख़्वार ! झूमो !

ये मीलाद-ए-ख़ैर-उल-वरा हो रहा है
ये मीलाद-ए-ख़ैर-उल-वरा हो रहा है

आक़ा की आमद ! मरहबा !
दाता की आमद ! मरहबा !
आ’ला की आमद ! मरहबा !
बाला की आमद ! मरहबा !
औला की आमद ! मरहबा !
वाला की आमद ! मरहबा !
रसूल की आमद ! मरहबा !
मक़्बूल की आमद ! मरहबा !
हुज़ूर की आमद ! मरहबा !
पुर-नूर की आमद ! मरहबा !
बशीर की आमद ! मरहबा !
नज़ीर की आमद ! मरहबा !
अव्वल की आमद ! मरहबा !
आख़िर की आमद ! मरहबा !
बातिन की आमद ! मरहबा !
ज़ाहिर की आमद ! मरहबा !

ये मीलाद-ए-ख़ैर-उल-वरा हो रहा है
ये मीलाद-ए-ख़ैर-उल-वरा हो रहा है

ये जश्न-ए-हबीब-ए-ख़ुदा हो रहा है
ये मीलाद-ए-ख़ैर-उल-वरा हो रहा है

ये क्यूँ आज होता है घर-घर चराग़ाँ
जहाँ का समाँ क्यूँ नया हो रहा है

ये जश्न-ए-हबीब-ए-ख़ुदा हो रहा है
ये मीलाद-ए-ख़ैर-उल-वरा हो रहा है

ज़माने पे क्यूँ आज है नूर छाया
ये क्यूँ ज़िक्र-ए-सल्ले-‘अला हो रहा है

ये जश्न-ए-हबीब-ए-ख़ुदा हो रहा है
ये मीलाद-ए-ख़ैर-उल-वरा हो रहा है

क्यूँ जिब्रील झंडा लिये आ रहे हैं
सर-ए-का’बा ये आज क्या हो रहा है

ये जश्न-ए-हबीब-ए-ख़ुदा हो रहा है
ये मीलाद-ए-ख़ैर-उल-वरा हो रहा है

आ गए सरकार ! झूमो !
नबियों के सरदार ! झूमो !
दो जग के मुख़्तार ! झूमो !
हैं सब के ग़म-ख़्वार ! झूमो !

सर-ए-का’बा गाड़े हैं जिब्रील झंडा
‘अलम तेरा दुनिया पे वा हो रहा है

ये जश्न-ए-हबीब-ए-ख़ुदा हो रहा है
ये मीलाद-ए-ख़ैर-उल-वरा हो रहा है

आक़ा की आमद ! मरहबा !
दाता की आमद ! मरहबा !
आ’ला की आमद ! मरहबा !
बाला की आमद ! मरहबा !
औला की आमद ! मरहबा !
वाला की आमद ! मरहबा !
रसूल की आमद ! मरहबा !
मक़्बूल की आमद ! मरहबा !
हुज़ूर की आमद ! मरहबा !
पुर-नूर की आमद ! मरहबा !
बशीर की आमद ! मरहबा !
नज़ीर की आमद ! मरहबा !
अव्वल की आमद ! मरहबा !
आख़िर की आमद ! मरहबा !
बातिन की आमद ! मरहबा !
ज़ाहिर की आमद ! मरहबा !

हो बख़्शिश मेरी सारी उम्मत की, या रब !
ज़बाँ से ये उन की अदा हो रहा है

रब्बी हब ली उम्मती कहते हुए पैदा हुए
हक़ ने फ़रमाया कि बख़्शा, अस्सलातु व-स्सलाम

हो बख़्शिश मेरी सारी उम्मत की, या रब !
ज़बाँ से ये उन की अदा हो रहा है

ये जश्न-ए-हबीब-ए-ख़ुदा हो रहा है
ये मीलाद-ए-ख़ैर-उल-वरा हो रहा है

आ गए सरकार ! झूमो !
नबियों के सरदार ! झूमो !
दो जग के मुख़्तार ! झूमो !
हैं सब के ग़म-ख़्वार ! झूमो !

न क्यूँ आज झूमें कि सरकार आए
ख़ुदा की ख़ुदाई के मुख़्तार आए

मुबारक तुम्हें, ग़म के मारो ! मुबारक
मदावा-ए-ग़म बन के ग़म-ख़्वार आए

सुवाल अपनी उम्मत की बख़्शिश का करते
वो हम ‘आसियों के तरफ़-दार आए

यतीमों के वाली, ग़रीबों के हामी
वो आफ़त-ज़दों के मददगार आए

विलादत का सदक़ा, गुनाहों से नफ़रत
हो, अच्छाइयों पर मुझे प्यार आए

विलादत का सदक़ा हमें अपना ग़म दो
शहा ! चश्म-ए-नम के तलबगार आए

विलादत का सदक़ा, पड़ोसी बनाना
शहा ! ख़ुल्द में जब ये बद-कार आए

विलादत का सदक़ा, शहा ! ज़िंदगी भर
मदीने में हर साल ‘अत्तार आए

आक़ा की आमद ! मरहबा !
दाता की आमद ! मरहबा !
आ’ला की आमद ! मरहबा !
बाला की आमद ! मरहबा !
औला की आमद ! मरहबा !
वाला की आमद ! मरहबा !
रसूल की आमद ! मरहबा !
मक़्बूल की आमद ! मरहबा !
हुज़ूर की आमद ! मरहबा !
पुर-नूर की आमद ! मरहबा !
बशीर की आमद ! मरहबा !
नज़ीर की आमद ! मरहबा !
अव्वल की आमद ! मरहबा !
आख़िर की आमद ! मरहबा !
बातिन की आमद ! मरहबा !
ज़ाहिर की आमद ! मरहबा !

ये नूरानी सूरत दुह़ाहा के जल्वे
तो वल्लैल गेसू नुमा हो रहा है

है होंटों पे क़ुर्बान रा’नाई-ए-गुल
तबस्सुम पे बुलबुल फ़िदा हो रहा है

ये जश्न-ए-हबीब-ए-ख़ुदा हो रहा है
ये मीलाद-ए-ख़ैर-उल-वरा हो रहा है

ये कहती थी घर घर में जा कर हलीमा
मेरे घर में ख़ैर-उल-वरा आ गए हैं
बड़े औज पर है मेरा अब मुक़द्दर
मेरे घर हबीब-ए-ख़ुदा आ गए हैं

उठी चार-सू रहमतों की घटाएँ
मु’अत्तर मु’अत्तर हैं सारी फ़ज़ाएँ
ख़ुशी में ये जिब्रील नग़्मे सुनाएँ
वो शाफ़े’-ए-रोज़-ए-जज़ा आ गए हैं

ये ज़ुल्मत से कह दो कि डेरे उठा ले
कि हैं हर तरफ़ अब उजाले उजाले
कहा जिन को हक़ ने सिराज-म्मुनीरा
मेरे घर वो नूर-ए-ख़ुदा आ गए हैं

ये सुन कर सख़ी आप का आस्ताना
है दामन पसारे हुए सब ज़माना
विलादत का सदक़ा, निगाह-ए-करम हो
तेरे दर पे तेरे गदा आ गए हैं

ये जश्न-ए-हबीब-ए-ख़ुदा हो रहा है
ये मीलाद-ए-ख़ैर-उल-वरा हो रहा है

ज़माने के ग़म भूल जाते हैं उस को
तेरे दर जो हाज़िर गदा हो रहा है

गुमा दे तू फ़ानी को अपनी विला में
ये दुनिया के ग़म में फ़ना हो रहा है

ये जश्न-ए-हबीब-ए-ख़ुदा हो रहा है
ये मीलाद-ए-ख़ैर-उल-वरा हो रहा है

आक़ा की आमद ! मरहबा !
दाता की आमद ! मरहबा !
आ’ला की आमद ! मरहबा !
बाला की आमद ! मरहबा !
औला की आमद ! मरहबा !
वाला की आमद ! मरहबा !
रसूल की आमद ! मरहबा !
मक़्बूल की आमद ! मरहबा !
हुज़ूर की आमद ! मरहबा !
पुर-नूर की आमद ! मरहबा !
बशीर की आमद ! मरहबा !
नज़ीर की आमद ! मरहबा !
अव्वल की आमद ! मरहबा !
आख़िर की आमद ! मरहबा !
बातिन की आमद ! मरहबा !
ज़ाहिर की आमद ! मरहबा !

आ गए सरकार ! झूमो !
नबियों के सरदार ! झूमो !
दो जग के मुख़्तार ! झूमो !
हैं सब के ग़म-ख़्वार ! झूमो !

ये जश्न-ए-हबीब-ए-ख़ुदा हो रहा है
ये मीलाद-ए-ख़ैर-उल-वरा हो रहा है

शायर:
अश्फ़ाक़ अत्तारी

ना’त-ख़्वाँ:
अश्फ़ाक़ अत्तारी

 

aa gae sarkaar ! jhoomo !
nabiyo.n ke sardaar ! jhoomo !
do jag ke muKHtaar ! jhoomo !
hai.n sab ke Gam-KHwaar ! jhoomo !

ye meelaad-e-KHair-ul-wara ho raha hai
ye meelaad-e-KHair-ul-wara ho raha hai

aaqa ki aamad ! marhaba !
daata ki aamad ! marhaba !
aa’la ki aamad ! marhaba !
baala ki aamad ! marhaba !
aula ki aamad ! marhaba !
waala ki aamad ! marhaba !
rasool ki aamad ! marhaba !
maqbool ki aamad ! marhaba !
huzoor ki aamad ! marhaba !
pur-noor ki aamad ! marhaba !
basheer ki aamad ! marhaba !
nazeer ki aamad ! marhaba !
awwal ki aamad ! marhaba !
aaKHir ki aamad ! marhaba !
baatin ki aamad ! marhaba !
zaahir ki aamad ! marhaba !

ye meelaad-e-KHair-ul-wara ho raha hai
ye meelaad-e-KHair-ul-wara ho raha hai

ye jashn-e-habeeb-e-KHuda ho raha hai
ye meelaad-e-KHair-ul-wara ho raha hai

ye kyu.n aaj hota hai ghar-ghar charaaGaa.n
jahaa.n ka samaa.n kyu.n naya ho raha hai

ye jashn-e-habeeb-e-KHuda ho raha hai
ye meelaad-e-KHair-ul-wara ho raha hai

zamaane pe kyu.n aaj hai noor chhaaya
ye kyu.n zikr-e-salle-‘ala ho raha hai

ye jashn-e-habeeb-e-KHuda ho raha hai
ye meelaad-e-KHair-ul-wara ho raha hai

kyu.n jibreel jhanda liye aa rahe hai.n
sar-e-kaa’ba ye aaj kya ho raha hai

ye jashn-e-habeeb-e-KHuda ho raha hai
ye meelaad-e-KHair-ul-wara ho raha hai

aa gae sarkaar ! jhoomo !
nabiyo.n ke sardaar ! jhoomo !
do jag ke muKHtaar ! jhoomo !
hai.n sab ke Gam-KHwaar ! jhoomo !

sar-e-kaa’ba gaa.De hai.n jibreel jhanda
‘alam tera duniya pe waa ho raha hai

ye jashn-e-habeeb-e-KHuda ho raha hai
ye meelaad-e-KHair-ul-wara ho raha hai

aaqa ki aamad ! marhaba !
daata ki aamad ! marhaba !
aa’la ki aamad ! marhaba !
baala ki aamad ! marhaba !
aula ki aamad ! marhaba !
waala ki aamad ! marhaba !
rasool ki aamad ! marhaba !
maqbool ki aamad ! marhaba !
huzoor ki aamad ! marhaba !
pur-noor ki aamad ! marhaba !
basheer ki aamad ! marhaba !
nazeer ki aamad ! marhaba !
awwal ki aamad ! marhaba !
aaKHir ki aamad ! marhaba !
baatin ki aamad ! marhaba !
zaahir ki aamad ! marhaba !

ho baKHshish meri saari ummat ki, ya rab !
zabaa.n se ye un ki ada ho raha hai

rabbi hab lee ummati kehte hue paida hue
haq ne farmaaya ki baKHsha, assalaatu wa-ssalaam

ho baKHshish meri saari ummat ki, ya rab !
zabaa.n se ye un ki ada ho raha hai

ye jashn-e-habeeb-e-KHuda ho raha hai
ye meelaad-e-KHair-ul-wara ho raha hai

aa gae sarkaar ! jhoomo !
nabiyo.n ke sardaar ! jhoomo !
do jag ke muKHtaar ! jhoomo !
hai.n sab ke Gam-KHwaar ! jhoomo !

na kyu.n aaj jhoome.n ki sarkaar aae
KHuda ki KHudaai ke muKHtaar aae

mubaarak tumhe.n, Gam ke maaro ! mubaarak
madaawa-e-Gam ban ke Gam-KHwaar aae

suwaal apni ummat ki baKHshish ka karte
wo ham ‘aasiyo.n ke taraf-daar aae

yateemo.n ke waali, Gareebo.n ke haami
wo aafat-zado.n ke madadgaar aae

wilaadat ka sadqa, gunaaho.n se nafrat
ho, achchhaaiyo.n par mujhe pyaar aae

wilaadat ka sadqa hame.n apna Gam do
shaha ! chashm-e-nam ke talabgaar aae

wilaadat ka sadqa, pa.Dosi banaana
shaha ! KHuld me.n jab ye bad-kaar aae

wilaadat ka sadqa, shaha ! zindagi bhar
madine me.n har saal ‘Attar aae

aaqa ki aamad ! marhaba !
daata ki aamad ! marhaba !
aa’la ki aamad ! marhaba !
baala ki aamad ! marhaba !
aula ki aamad ! marhaba !
waala ki aamad ! marhaba !
rasool ki aamad ! marhaba !
maqbool ki aamad ! marhaba !
huzoor ki aamad ! marhaba !
pur-noor ki aamad ! marhaba !
basheer ki aamad ! marhaba !
nazeer ki aamad ! marhaba !
awwal ki aamad ! marhaba !
aaKHir ki aamad ! marhaba !
baatin ki aamad ! marhaba !
zaahir ki aamad ! marhaba !

ye nooraani soorat duhaaha ke jalwe
to wallail gesoo numa ho raha hai

hai honTo.n pe qurbaan raa’naai-e-gul
tabassum pe bulbul fida ho raha hai

ye jashn-e-habeeb-e-KHuda ho raha hai
ye meelaad-e-KHair-ul-wara ho raha hai

ye kehti thi ghar ghar me.n jaa kar haleema
mere ghar me.n KHair-ul-wara aa gae hai.n
ba.De auj par hai mera ab muqaddar
mere ghar habeeb-e-KHuda aa gae hai.n

uThi chaar-soo rahmato.n ki ghaTaae.n
mu’attar mu’attar hai.n saari fazaae.n
KHushi me.n ye jibreel naGme sunaae.n
wo shaafe’-e-roz-e-jaza aa gae hai.n

ye zulmat se keh do ki Dere uTha le
ki hai.n har taraf ab ujaale ujaale
kaha jin ko haq ne siraajam-muneera
mere ghar wo noor-e-KHuda aa gae hai.n

ye sun kar saKHi aap ka aastaana
hai daaman pasaare hue sab zamaana
wilaadat ka sadqa, nigaah-e-karam ho
tere dar pe tere gada aa gae hai.n

ye jashn-e-habeeb-e-KHuda ho raha hai
ye meelaad-e-KHair-ul-wara ho raha hai

zamaane ke Gam bhool jaate hai.n us ko
tere dar jo haazir gada ho raha hai

guma de tu Faani ko apni wila me.n
ye duniya ke Gam me.n fana ho raha hai

ye jashn-e-habeeb-e-KHuda ho raha hai
ye meelaad-e-KHair-ul-wara ho raha hai

aaqa ki aamad ! marhaba !
daata ki aamad ! marhaba !
aa’la ki aamad ! marhaba !
baala ki aamad ! marhaba !
aula ki aamad ! marhaba !
waala ki aamad ! marhaba !
rasool ki aamad ! marhaba !
maqbool ki aamad ! marhaba !
huzoor ki aamad ! marhaba !
pur-noor ki aamad ! marhaba !
basheer ki aamad ! marhaba !
nazeer ki aamad ! marhaba !
awwal ki aamad ! marhaba !
aaKHir ki aamad ! marhaba !
baatin ki aamad ! marhaba !
zaahir ki aamad ! marhaba !

aa gae sarkaar ! jhoomo !
nabiyo.n ke sardaar ! jhoomo !
do jag ke muKHtaar ! jhoomo !
hai.n sab ke Gam-KHwaar ! jhoomo !

ye jashn-e-habeeb-e-KHuda ho raha hai
ye meelaad-e-KHair-ul-wara ho raha hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *