Ye Kehti Thi Ghar Ghar Mein Ja Kar Haleema Naat Lyrics

Ye Kehti Thi Ghar Ghar Mein Ja Kar Haleema Naat Lyrics

 

 

ये कहती थी घर घर में जा कर हलीमा
मेरे घर में ख़ैर-उल-वरा आ गए हैं
बड़े औज पर है मेरा अब मुक़द्दर
मेरे घर हबीब-ए-ख़ुदा आ गए हैं

उठी चार-सू रहमतों की घटाएँ
मु’अत्तर मु’अत्तर हैं सारी फ़ज़ाएँ
ख़ुशी में ये जिब्रील नग़्मे सुनाएँ
वो शाफ़े’-ए-रोज़-ए-जज़ा आ गए हैं

ये ज़ुल्मत से कह दो कि डेरे उठा ले
कि हैं हर तरफ़ अब उजाले उजाले
कहा जिन को हक़ ने सिराज-म्मुनीरा
मेरे घर वो नूर-ए-ख़ुदा आ गए हैं

मुक़र्रब हैं बेशक ख़लील-ओ-नजी भी
बड़ी शान वाले कलीम-ओ-मसीह भी
लिये ‘अर्श ने जिन के क़दमों के बोसे
वो उम्मी लक़ब मुस्तफ़ा आ गए हैं

है सुन कर सख़ी आप का आस्ताना
है दामन पसारे हुए सब ज़माना
नवासों का सदक़ा, निगाह-ए-करम हो
तेरे दर पे तेरे गदा आ गए हैं

ख़ुदा के करम से नकीरैन आ कर
कहेंगे ज़ियारत का मुज़्दा सुना कर
उठो बहर-ए-ता’ज़ीम, नूर-उल-हसन ! अब
लहद में रसूल-ए-ख़ुदा आ गए हैं

शायर:
नूर-उल-हसन

ना’त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी
अल्हाज सिद्दीक़ इस्माईल

 

ye kehti thi ghar ghar me.n jaa kar haleema
mere ghar me.n KHair-ul-wara aa gae hai.n
ba.De auj par hai mera ab muqaddar
mere ghar habeeb-e-KHuda aa gae hai.n

uThi chaar-soo rahmato.n ki ghaTaae.n
mu’attar mu’attar hai.n saari fazaae.n
KHushi me.n ye jibreel naGme sunaae.n
wo shaafe’-e-roz-e-jaza aa gae hai.n

ye zulmat se keh do ki Dere uTha le
ki hai.n har taraf ab ujaale ujaale
kaha jin ko haq ne siraajam-muneera
mere ghar wo noor-e-KHuda aa gae hai.n

muqarrab hai.n beshak KHaleel-o-naji bhi
ba.Di shaan waale kaleem-o-maseeh bhi
liye ‘arsh ne jin ke qadmo.n ke bose
wo ummi laqab mustafa aa gae hai.n

hai sun kar saKHi aap ka aastaana
hai daaman pasaare hue sab zamaana
nawaaso.n ka sadqa, nigaah-e-karam ho
tere dar pe tere gada aa gae hai.n

KHuda ke karam se nakirain aa kar
kahenge ziyaarat ka muzda suna kar
uTho bahr-e-taa’zeem, Noor-ul-Hasan ! ab
lahad me.n rasool-e-KHuda aa gae hai.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *