Ye Na Poochh Kya Husain Hai Naat Lyrics

Ye Na Poochh Kya Husain Hai Naat Lyrics

 

Ye Na Poochh Kya Husain Hai Naat Lyrics | Ik Yazeed Tha Husain Hai

 

या हुसैन ! या हुसैन ! या हुसैन ! या हुसैन !

सरकार हुसैन ! लजपाल हुसैन !
सरकार हुसैन ! लजपाल हुसैन !

ये न पूछ क्या हुसैन है
फ़ज़्ल-ए-किब्रिया हुसैन है

क्या बताऊँ क्या हुसैन है
मेरा मुद्द’आ हुसैन है

ये न पूछ क्या हुसैन है
फ़ज़्ल-ए-किब्रिया हुसैन है

बात है बस इतनी मुख़्तसर
इक यज़ीद था, हुसैन है

फ़ज़्ल-ए-किब्रिया हुसैन है

ये न पूछ क्या हुसैन है
फ़ज़्ल-ए-किब्रिया हुसैन है

वो जिस के नाम पे नब्ज़-ए-हयात चलती है
ज़मीं का ज़िक्र ही क्या काइनात चलती है
ये बात ज़ेहन में रखिए कि जब्र के आगे
अगर हुसैन चलाए तो बात चलती है

इक यज़ीद था, हुसैन है
फ़ज़्ल-ए-किब्रिया हुसैन है

यज़ीद नक़्शा-ए-जौर-ओ-जफ़ा बनाता है
हुसैन उस में ख़त-ए-कर्बला बनाता है
यज़ीद आज भी बनते हैं लोग कोशिश से
हुसैन ख़ुद नहीं बनता, ख़ुदा बनाता है

इक यज़ीद था, हुसैन है
फ़ज़्ल-ए-किब्रिया हुसैन है

ये न पूछ क्या हुसैन है
फ़ज़्ल-ए-किब्रिया हुसैन है

मुर्तज़ा का है वो शाहकार
आल-ए-मुस्तफ़ा हुसैन है

ये न पूछ क्या हुसैन है
फ़ज़्ल-ए-किब्रिया हुसैन है

है जिन की ख़ाक-ए-पा रुख़-ए-माह पर लगी हुई
उन की लगन है दिल को बराबर लगी हुई

मेरा कफ़न हो तार-ए-अबद से बुना हुआ
हो साथ इल्तिमास की झालर लगी हुई

ज़हरा, हुसैन और हसन का ग़ुलाम हूँ
मेरे ‘अली की मुहर है मुझ पर लगी हुई

टक्कर न ले नबी की शरी’अत से, होश कर
दोज़ख़ में झोंकती है ये ठोकर लगी हुई

आल-ए-मुस्तफ़ा हुसैन है
फ़ज़्ल-ए-किब्रिया हुसैन है

ये न पूछ क्या हुसैन है
फ़ज़्ल-ए-किब्रिया हुसैन है

कैसे हो सकेगा ये फ़ना
दीन की बक़ा हुसैन है

ये न पूछ क्या हुसैन है
फ़ज़्ल-ए-किब्रिया हुसैन है

वा’दा-ए-नबी किया वफ़ा
ऐसा बा-वफ़ा हुसैन है

ये न पूछ क्या हुसैन है
फ़ज़्ल-ए-किब्रिया हुसैन है

कर्बला ने दे दिया सुबूत
दीन में खरा हुसैन है

ये न पूछ क्या हुसैन है
फ़ज़्ल-ए-किब्रिया हुसैन है

कर्बला में आख़री नमाज़
कर गया अदा हुसैन है

मिट्टी में मिल गए हैं इरादे यज़ीद के
लहरा रहा है आज भी परचम हुसैन का

कर गया अदा हुसैन है
कर गया अदा हुसैन है

ये न पूछ क्या हुसैन है
फ़ज़्ल-ए-किब्रिया हुसैन है

ख़ुल्द है उन्हीं की मिल्किय्यत
जिन का मुक़्तदा हुसैन है

ये न पूछ क्या हुसैन है
फ़ज़्ल-ए-किब्रिया हुसैन है

अर्फ़क़ ! आप की हैं जन्नतें
क्यूँकि आप का हुसैन है

फ़ज़्ल-ए-किब्रिया हुसैन है

ये न पूछ क्या हुसैन है
फ़ज़्ल-ए-किब्रिया हुसैन है

शायर:
अर्फ़क़

ना’त-ख़्वाँ:
ख़ालिद हसनैन ख़ालिद
यश्फ़ीन अजमल शैख़
असद रज़ा अत्तारी

 

ya husain ! ya husain ! ya husain ! ya husain !

sarkaar husain ! lajpaal husain !
sarkaar husain ! lajpaal husain !

ye na pooch kya husain hai
fazl-e-kibriya husain hai

kya bataau.n kya husain hai
mera mudd’aa husain hai

ye na pooch kya husain hai
fazl-e-kibriya husain hai

baat hai bas itni muKHtasar
ik yazeed tha, husain hai

fazl-e-kibriya husain hai

ye na pooch kya husain hai
fazl-e-kibriya husain hai

wo jis ke naam pe nabz-e-hayaat chalti hai
zamee.n ka zikr hi kya kaainaat chalti hai
ye baat zehn me.n rakhiye ki jabr ke aage
agar husain chalaae to baat chalti hai

ik yazeed tha, husain hai
fazl-e-kibriya husain hai

yazeed naqsha-e-jaur-o-jafa banaata hai
husain us me.n KHat-e-karbala banaata hai
yazeed aaj bhi bante hai.n log koshish se
husain KHud nahi.n banta, KHuda banaata hai

ik yazeed tha, husain hai
fazl-e-kibriya husain hai

ye na pooch kya husain hai
fazl-e-kibriya husain hai

murtaza ka hai wo shaahkaar
aal-e-mustafa husain hai

ye na pooch kya husain hai
fazl-e-kibriya husain hai

hai jin ki KHaak-e-paa ruKH-e-maah par lagi hui
un ki lagan hai dil ko baraabar lagi hui

mera kafan ho taar-e-abad se buna huwa
ho saath iltimaas ki jhaalar lagi hui

zahra, husain aur hasan ka Gulaam hu.n
mere ‘ali ki muhar hai mujh par lagi hui

Takkar na le nabi ki sharee’at se, hosh kar
dozaKH me.n jhonkti hai ye Thokar lagi hui

aal-e-mustafa husain hai
fazl-e-kibriya husain hai

ye na pooch kya husain hai
fazl-e-kibriya husain hai

kaise ho sakega ye fana
deen ki baqa husain hai

ye na pooch kya husain hai
fazl-e-kibriya husain hai

waa’da-e-nabi kiya wafa
aisa baa-wafa husain hai

ye na pooch kya husain hai
fazl-e-kibriya husain hai

karbala ne de diya suboot
deen me.n khara husain hai

ye na pooch kya husain hai
fazl-e-kibriya husain hai

karbala me.n aaKHri namaaz
kar gaya ada husain hai

miTTi me.n mil gae hai.n iraade yazeed ke
lehra raha hai aaj bhi parcham husain ka

kar gaya ada husain hai
kar gaya ada husain hai

ye na pooch kya husain hai
fazl-e-kibriya husain hai

KHuld hai unhi.n ki milkiyyat
jin ka muqtada husain hai

ye na pooch kya husain hai
fazl-e-kibriya husain hai

Arfaq ! aap ki hai.n jannate.n
kyu.nki aap ka husain hai

fazl-e-kibriya husain hai

ye na pooch kya husain hai
fazl-e-kibriya husain hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *