Zaair-e-Tayba Rauze Pe Ja Kar Tu Salam Un Se Ro Ro Ke Kehan Naat Lyrics

Zaair-e-Tayba Rauze Pe Ja Kar Tu Salam Un Se Ro Ro Ke Kehan Naat Lyrics

 

 

 

Zaair-e-Tayba Rauze Pe Ja Kar Tu Salam Un Se Ro Ro Ke Kehan Naat Lyrics | Tu Salam Mera Ro Ro Ke Kehna
ज़ाइर-ए-तयबा ! रौज़े पे जा कर
तू सलाम उन से रो रो के कहना
मेरे ग़म का फ़साना सुना कर
तू सलाम उन से रो रो के कहना

तेरी क़िस्मत पे रश्क आ रहा है
तू मदीने को अब जा रहा है
आह ! जाता है मुझ को रुला कर
तू सलाम उन से रो रो के कहना

जब पहुँच जाए तेरा सफ़ीना
जब नज़र आए मीठा मदीना
बा-अदब अपने सर को झुका कर
तू सलाम उन से रो रो के कहना

जब कि आए नज़र प्यारा मक्का
चूम लेना नज़र से तू का’बा
हो सके गर तो हर-जा पे जा कर
तू सलाम उन से रो रो के कहना

तू ‘अरब की हसीं वादियों को
रेग-ज़ारों को, आबादियों को
मेरी जानिब से पलकें बिछा कर
तू सलाम उन से रो रो के कहना

जब कि पेश-ए-नज़र जालियाँ हों
तेरी आँखों से आँसू रवाँ हों
मेरे ग़म की कहानी सुना कर
तू सलाम उन से रो रो के कहना

आमिना के दुलारे को पहले
बा’द शैख़ैन को भी तू कह ले
फिर बक़ी’-ए-मुबारक पे जा कर
तू सलाम उन से रो रो के कहना

माँगना मत तू दुनिया की दौलत
माँगना उन से बस उन की उल्फ़त
ख़ूब दीवाने दिल को लगा कर
तू सलाम उन से रो रो के कहना

मेरे आक़ा के मेहराब-ओ-मिंबर
उन की मस्जिद के दीवार और दर
क़ल्ब की आँख उन पर जमा कर
तू सलाम उन से रो रो के कहना

प्यारी प्यारी वो जन्नत की क्यारी
चूम लेना निगाहों से सारी
बहर-ए-रहमत में ग़ोता लगा कर
तू सलाम उन से रो रो के कहना

सब्ज़-गुंबद के दिलकश नज़ारे
रूह परवर वहॉं के मनारे
उन के जल्वों में ख़ुद को गुमा कर
तू सलाम उन से रो रो के कहना

वो शहीदों के सरदार हम्ज़ा
और जितने वहाँ हैं सहाबा
तू सभी की मज़ारों पे जा कर
तू सलाम उन से रो रो के कहना

वो मदीने के मदनी नज़ारे
दिलकश-ओ-दिल-कुशा प्यारे प्यारे
उन नज़ारों पे क़ुर्बान जा कर
तू सलाम उन से रो रो के कहना

तू ग़ुलामों पे कहना करम कर
या नबी ! दूर रंज-ओ-अलम कर
उन को अपनी मोहब्बत ‘अता कर
तू सलाम उन से रो रो के कहना

कहना ‘अत्तार, ए शाह-ए-‘आली !
है फ़क़त तुझ से तेरा सुवाली
तू सुवाल इस का पूरा, शहा ! कर
तू सलाम उन से रो रो के कहना

शायर:
मुहम्मद इल्यास अत्तार क़ादरी

ना’त-ख़्वाँ:
हाजी मुश्ताक़ अत्तारी
ओवैस रज़ा क़ादरी
महमूद अत्तारी

 

zaair-e-tayba ! rauze pe jaa kar
tu salaam un se ro ro ke kehna
mere Gam ka fasaana suna kar
tu salaam un se ro ro ke kehna

teri qismat pe rashk aa raha hai
tu madine ko ab jaa raha hai
aah ! jaata hai mujh ko rula kar
tu salaam un se ro ro ke kehna

jab pahunch jaae tera safeena
jab nazar aae meeTha madina
baa-adab apne sar ko jhuka kar
tu salaam un se ro ro ke kehna

jab ki aae nazar pyaara makka
choom lena nazar se tu kaa’ba
ho sake gar to har-jaa pe jaa kar
tu salaam un se ro ro ke kehna

tu ‘arab ki hasee.n waadiyo.n ko
reg-zaaro.n ko, aabaadiyo.n ko
meri jaanib se palke.n bichha kar
tu salaam un se ro ro ke kehna

jab ki pesh-e-nazar jaaliyaa.n ho.n
teri aankho.n se aansoo rawaa.n ho.n
mere Gam ki kahaani suna kar
tu salaam un se ro ro ke kehna

aamina ke dulaare ko pehle
baa’d shaiKHain ko bhi tu keh le
phir baqee’-e-mubaarak pe jaa kar
tu salaam un se ro ro ke kehna

maangna mat tu duniya ki daulat
maangna un se bas un ki ulfat
KHoob deewaane dil ko laga kar
tu salaam un se ro ro ke kehna

mere aaqa ke mehraab-o-mimbar
un ki masjid ke deewaa aur dar
qalb ki aankh un par jama kar
tu salaam un se ro ro ke kehna

pyaari pyaari wo jannat ki kyaari
choom lena nigaaho.n se saari
bahr-e-rahmat me.n Gota laga kar
tu salaam un se ro ro ke kehna

sabz-gumbad ke dilkash nazaare
rooh-parwar wahaa.n ke manaare
un ke jalwo.n me.n KHud ko guma kar
tu salaam un se ro ro ke kehna

wo shaheedo.n ke sardaar hamza
aur jitne wahaa.n hai.n sahaaba
tu sabhi ki mazaaro.n pe jaa kar
tu salaam un se ro ro ke kehna

wo madine ke madani nazaare
dilkash-o-dil-kusha pyaare pyaare
un nazaaro.n pe qurbaan jaa kar
tu salaam un se ro ro ke kehna

tu Gulaamo.n pe kehna karam kar
ya nabi ! door ranj-o-alam kar
un ko apni mohabbat ‘ata kar
tu salaam un se ro ro ke kehna

kehna ‘Attar, ai shaah-e-‘aali !
hai faqat tujh se tera suwaali
tu suwaal is ka poora, shaha ! kar
tu salaam un se ro ro ke kehna

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *